कार्रवाई:हाईवे पर हादसा हो व राहत न पहुंचे तो एनएचएआई पीडी पर मुकदमा कराओ, अगली बार मीटिंग में आ जाएंगे : कलेक्टर

सीकरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • ट्रैफिक मैनेजमेंट कमेटी की मीटिंग में अनुपस्थित एनएचएआई पीडी के खिलाफ गुस्साए कलेक्टर, 17 सीसीए के नोटिस के निर्देश

यातायात प्रबंधन समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में हुई। कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने ट्रैफिक से जुड़े मुद्‌दों पर अधिकारियों को तुरंत एक्शन के निर्देश दिए। काम में लापरवाही पर नगर परिषद आयुक्त, आरटीओ, पीडब्ल्यूडी के अधिकारी को फटकार लगाई। शहर में पार्किंग के लिए खाली जगह देखने के लिए स्वयं दौरा कर निर्णय लेने की बात कही।

उन्होंने बैठक के अंत में सभी अधिकारियों को कहा कि कलेक्ट्रेट में पार्किंग व्यवस्था का कुछ करिए। मैं और एसपी साहब एक साथ निकलते हैं तो उधेड़बुन में फंस जाते हैं कि किसकी गाड़ी निकले। सबसे पहले इस समस्या का समाधान कीजिए फिर बाहर की सोचें। उल्लेखनीय है कि भास्कर ने कलेक्ट्रेट व शहर के हालात को लेकर खबर प्रकाशित कर अधिकारियों को अवगत कराया था।

कलेक्टर ने पूछा कि एनएचएआई परियोजना निदेशक कहां हैं। आरटीओ सतीश फौजदार बोले जयपुर मीटिंग में गए हैं। इस पर कलेक्टर ने कहा 9 माह बाद बैठक हो रही है फिर भी पीडी नहीं आए। उन्हें 17 सीसीए नोटिस दीजिए। एनएचएआई की हाईवे पर कितनी एंबुलेंस चल रही है। दुर्घटना होने पर हमारी एंबुलेंस से पहले उनकी एंबुलेंस पहुंचनी चाहिए।

इस बार हाईवे पर एक्सीडेंट हो और कोई राहत नहीं पहुंचे तो पीडी के खिलाफ मामला दर्ज करवाना, अगली बार बैठक में आ जाएंगे। बैठक में एएसपी डॉ. देवेंद्र शर्मा, एसडीएम गरिमा लाटा, आरटीओ सतीश फौजदार, नगर परिषद आयुक्त श्रवण कुमार विश्नोई, बिजली निगम एसई एनएस गढ़वाल,पीडब्ल्यूडी एक्सईएन गोपालसिंह आर्य आदि मौजूद थे।

डामर के स्पीड ब्रेकर न बनाने पर कलेक्टर बोले-नियमों से चलोगे तो जनता का कोई काम नहीं कर पाओगे
समिति सदस्य नरेंद्र वर्मा रोलन ने लिंक सड़कों व शहर की सड़कों पर स्पीड ब्रेकर का सवाल उठाया। कलेक्टर ने पूछा डामर के ब्रेकर बना रहे हैं क्या। पीडब्ल्यूडी एक्सईएन गोपालसिंह आर्य बोले-एनएचएआई के नियमों के अनुसार डामर के नहीं बना सकते। कलेक्टर ने कहा नियमों से चलोगे तो जनता का कोई कार्य नहीं कर पाओगे। डामर के स्पीड ब्रेकर बना उन पर तेज गति से वाहन का ट्रायल कीजिए। समिति सदस्य बोले कुछ जगह को छोड़ कहीं स्पीड ब्रेकर नहीं है।
एमएनआईटी के प्रोफेसर्स रिपोर्ट के 5 लाख मांग रहे
कलेक्टर बैठक में 11.30 के बजाय 12.5 बजे आए। पूछा-एमएनआईटी की रिपोर्ट का क्या हुआ। आरटीओ ने बताया कि-एमएनआईटी, जयपुर से 10-10 हजार रुपए देकर तीन प्रोफेसर बुलाए थे, अब वे रिपोर्ट देने के लिए 5 लाख रुपए मांग रहे हैं। कलेक्टर ने कहा फिर तो उन्हें ही काम दे दो, पुलिया बना देंगे। फ्लाईओवर चौड़ा करने को लेकर सरकार को पत्र लिखेंगे।

अव्यवस्था की तस्वीर : इसीलिए कलेक्टर को कहना पड़ा- पहले कलेक्ट्रेट में पार्किंग की व्यवस्था कराओ, मेरी व एसपी साहब की गाड़ी एक साथ नहीं निकल सकती

कलेक्ट्रेट में इसी तरह वाहन बेतरतीब खड़े रहते हैं। क्योंकि पार्किंग व्यवस्था नहीं है। इसी वजह से कलेक्टर को कहना पड़ा कि पहले पहले कलेक्ट्रेट में पार्किंग की व्यवस्था कराओ, मेरी व एसपी साहब की गाड़ी एक साथ नहीं निकल सकती।

कलेक्टर ने कहा पार्किंग की जगह मैं स्वयं देखूंगा | महावीर पुरोहित ने शहर में एक भी जगह पार्किंग नहीं होने की बात कही। कलेक्टर ने कहा कि पार्किंग की जगह मैं देखूंगा। पेड पार्किंग हो जिससे फालतू वाहन खड़े नहीं हो। थड़ी-ठेलों के चालान के निर्देश | कलेक्टर ने नगर परिषद आयुक्त से कहा- जगह-जगह ठेले वाले खड़े रहते हैं। इनकी यूनियन से बात करके एक बार समझाइश कर तय स्थान पर थड़ी ठेलों को लगवाई। दोबारा उल्लंघन करने पर चालान काटो व सामान जब्त कीजिए।

क्रेन के नए टेंडर के निर्देश | सड़क पर खड़े वाहनों को उठवाने के लिए क्रेन के बारे में टीआई बोले पुराना टेंडर पूरा हो गया। परिषद आयुक्त बोले पहले 30-40 वाहन उठते थे अब 10 उठा रहे। टीआई बोले 20 से अधिक वाहन उठा रहे हैं। कलेक्टर ने कहा क्रेन का नया टेंडर कीजिए।

आयुक्त बोले ग्रामीण छोड़ रहे शहर में पशु | राधेश्याम पारीक की ओर से निराश्रित पशुओं का मुद्दा उठाने पर नगर परिषद आयुक्त श्रवण कुमार विश्नोई बोले कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोग आए दिन वाहनों में पशुओं को भरकर शहर छोड़ जाते हैं। कितनों को नंदीशाला में रखें। नंदीशाला में भी ये आपस में लड़कर मर जाएंगे। चारे की समस्या भी है।

होटल के स्टे की कॉपी लाने काे कहा | आयुक्त श्रवण कुमार विश्नोई ने मीटिंग में कलेक्टर को बताया कि शहर में कल्याण सर्किल पर जाम यहां स्थित होटल के कारण लगता है। होटल मालिक ने स्टे ले रखा है लेकिन यह रोड पीडब्ल्यूडी के अधीन है। इस पर कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने पीडब्ल्यूडी के अधिकारी को कहा कल ही पता लगाओ और स्टे टूटा या नहीं इसकी कॉपी लाओ।
सदस्यों ने दिए सुझाव
तंग बाजारों में फोर व्हीलर पर रोक लगाई जाए, सुलभ शौचालय की व्यवस्था हो व्यापार संघ के राधेश्याम पारीक ने पनवाड़ी की गली, पताशा की गली व बावड़ी गेट पर फोर व्हीलर नहीं आने का सुझाव दिया। कलेक्टर ने टीआई काे ट्रायल के रूप में यहां वन-वे करने को कहा। बाजार में एक भी सुलभ शौचालय नहीं होने के मामले में आयुक्त बोले जल्द जगह चिन्हित कर तैयार कियोस्क लगाएंगे।

रोडवेज अधिकारी ने बजरंग कांटा, डिपो तिराहा, मारू स्कूल के पास लोक परिवहन व निजी बसों के रूकने व सवारियां लेने का मुद्दा उठाया। टीआई ने नकारा। बैठक में आए व्यापारी व प्रमुख लोगों ने भी इसे सही बताया। इस पर कलेक्टर ने कहा टीआई से इतने जागरूक लोग झूठ थोड़े बोल रहे हैं। इसे देखिए और तुरंत पांबदी लगाएं। कलेक्टर ने आरटीओ व टीआई दोनों को सिटी बसों के लिए बस स्टेंड, व इन्हें शुरू करने के निर्देश दिए। ऑटोरिक्शा के स्टेंड बनाने व इनके लाइसेंस व खटारा ऑटो को सीज करने को कहा।

खबरें और भी हैं...