सीकर में दुष्कर्मी को 7 साल की सजा:बहला फुसलाकर ​किया था नाबालिग से रेप, 12 गवाह और 16 सबूतों ने जेल तक पहुंचाया

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रेपिस्ट मदन जिसे सात सात की सजा सुनाई गई। - Dainik Bhaskar
रेपिस्ट मदन जिसे सात सात की सजा सुनाई गई।

नाबालिग से रेप के मामले में सीकर की पोक्सो कोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए सात साल का कठोर कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही 18 हजार रुपए का दंड भी लगाया गया है। मामला नीमकाथाना कोतवाली थाने का है। पोक्सो कोर्ट की जज सीमा अग्रवाल ने फैसला सुनाया। आरोपी हरियाणा के महेंद्रगढ़ में बाखोटा गांव निवासी मदनलाल उर्फ सोनू पुत्र कुंदनमल है।

इससे पहले पीड़िता की ओर से सरकारी वकील यशपाल सिंह ने आरोपी की ओर से पुरुषोत्तम शर्मा ने दलीलें रखी थी। सरकारी वकील ने नाबालिग को बहकाने पर दलीलें देते हुए कहा था कि इससे अपराध बढ़ेंगे। सभी पक्षों की दलील और सबूत देखने के बाद जज सीमा अग्रवाल ने फैसला दिया।

वारदात के समय मदनलाल नीमकाथाना में रहकर मजदूरी करता था। 13 दिसंबर 2016 को थाने में एक व्यक्ति ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि दीपावली के दिन से उसकी 15 वर्षीय बेटी घर से लापता है। इसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर नाबालिग को तलाश शुरू की। पुलिस ने बालिका को कुछ दिन में तलाश लिया, तब नाबालिग ने बयान उसके साथ रेप होने की बात कही। नाबालिग होने पर रेप के मामले में पुलिस ने 21 दिसंबर 2018 को गिरफ्तार किया था। तभी से वह कोर्ट कस्टडी में चल रहा था। पुलिस ने चार्जशीट पेश करते हुए 12 गवाह और 16 दस्तावेजी सबूत लगाए थे। जिसके आधार पर कोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए सजा सुनाई। कोर्ट ने इस अपराध को गंभीर मानते हुए समाज के लिए अभिशाप बताया है।

खबरें और भी हैं...