पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पीएचडी के आवेदन:काॅमर्स के बजाय एबीएसटी व ईएफएम में ही शाेध, बीएडीएम के सैकड़ाें छात्र नहीं कर पा रहे आवेदन

सीकर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शेखावाटी विश्वविद्यालय की ओर से पीएचडी के आवेदन 12 अप्रैल तक लिए जाएंगे। विश्वविद्यालय की ओर से इस सत्र में सिर्फ 16 विषयों में ही पीएचडी शुरू की जा रही है। अन्य विषयाें के शाेध पर्यवेक्षक नहीं मिलने के कारण पीएचडी शुरू नहीं हाे पाई है। प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय में काॅमर्स में पीएचडी करवाई जा रही है। वहीं यूजीसी काॅमर्स संकाय में नेट-जेआरएफ करवाती है। जबकि शेखावाटी विश्वविद्यालय में काॅमर्स संकाय के ईएएफएम, एबीएसटी में ही शाेध कार्य करवाया जा रहा है।

काॅमर्स संकाय के छात्र-छात्राओं ने इसका विराेध शुरू करते हुए काॅमर्स संकाय में पीएचडी शुरू करने की मांग की है। जिससे बीएडीएम के स्टूडेंट्स भी शाेध से वंचित नहीं रहें। काॅमर्स संकाय के बीएडीएम विषय सहित चार विषयाें में शाेध कार्य शुरू नहीं हाेने से सैकड़ाें छात्र-छात्राएं पीएचडी के लिए आवेदन नहीं कर पा रहे हैं।

काॅमर्स काॅलेज के पूर्व महासचिव विनय राेलानिया, काॅमर्स काॅलेज के पूर्व छात्रसंघ उपाध्यक्ष विजय सैनी, अशाेक रार, दिनेश सहित अन्य छात्र विश्वविद्यालय के कुलपति प्राे. भगीरथसिंह बिजारणियां व परीक्षा नियंत्रक डाॅ . अरिंदम बासु काे काॅमर्स संकाय में पीएचडी शुरू करने की मांग काे लेकर ज्ञापन दिया।

विश्वविद्यालय में 9 साल बाद शाेध कार्य शुरू फिर भी कई विषय छाेड़े
शेखावाटी विश्वविद्यालय 2012 में शुरू हाे गया था लेकिन 2016 में पहली बार स्नातक व स्नातकाेत्तर व प्राेफेशनल काेर्सेज की प्रथम वर्ष की परीक्षाएं शुरु की गईं थी। शेखावाटी विश्वविद्यालय के साथ खाुले अन्य विश्वविद्यालय की तुलना में 9 साल बाद अब जाकर हमारे विश्वविद्यालय में शाेध कार्य शुरू हुआ है।

सीकर और झुंझुुंनूं के हजाराें छात्र -छात्राएं शाेध काे लेकर परेशान हाे रहे हैं। भौतिक शास्त्र, अर्थशास्त्र, बीएडीएम, एजुकेशन विषयों के लिए शोध पर्यवेक्षकों के आवेदन आए थे। लेकिन इनमें शोध पर्यवेक्षक शर्तें पूरी नहीं कर पाने के कारण उनकी नियुक्ति नहीं हाे सकी। जिसके कारण पीएचडी शुरू नहीं हो पाएगी।

छाेटी सी कमी के कारण आवेदन निरस्त
जानकारी के अनुसार, शेखावाटी विश्वविद्यालय के पास अर्थशास्त्र सहित कई विषयाें के लिए शोध पर्यवेक्षकों के आवेदन आए थे। लेकिन कुछ कागजात के कारण इन्हें अपात्र घाेषित कर दिया गया। जबकि शेखावाटी यूनिवर्सिटी प्रशासन चाहता ताे उनके डाॅक्यूमेंट बाद में भी ले सकता था, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।

अर्थशास्त्र का आवेदन आया लेकिन महज एक दस्तावेज के चलते आवेदन काे निरस्त कर दिया गया। वहीं अन्य विषयाें के भी कई आवेदनाें काे कुछ दस्तावेजाें की कमी के कारण निरस्त कर दिया था।

इनका कहना है
बीएडीएम में एक भी आवेदन नहीं आया था इसलिए इसमें शाेध कार्य शुरू नहीं कर पाए। वहीं एजुकेशन में निजी काॅलेज के आवेदन आए थे लेकिन नियमित लेक्चरर नहीं हाेने के चलते आवेदन निरस्त कर दिया गया है।-डॉ. संजीव कुमार, शोध निदेशक, शेखावाटी विश्वविद्यालय

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें