पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • In The Lockdown, Liquor Became Expensive Due To The Money, 49 Per Cent Of The People Of The State Stopped Drinking, Now Working In 1 Bottle For Four Days

प्रदेश के 8300 लोगों पर सर्वे:लॉकडाउन में पैसों की तंगी के बीच शराब महंगी हुई तो राज्य के 49 फीसदी लोगों ने पीना कम कर दिया, अब 1 बोतल में चार दिन तक काम चला रहे

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मई 2019 में सरकार ने 857 करोड़ रुपए का टैक्स कलेक्शन किया था, मई 2020 में यह महज 697 करोड़ रुपए रह गया

(अरविन्द शर्मा) लाॅकडाउन की सबसे अच्छी बात यह रही है कि इससे लोगों की शराब पीने की आदत में कमी आई है। इसकी बड़ी वजह यह है कि सरकार ने शराब की कीमतों में 30 प्रतिशत की वृद्धि कर दी। जिससे हर बोतल पर कम से कम 30 रुपए की वृद्धि हो गई। इसलिए लोगों के पास शराब की बोतलें खरीदने के लिए रुपए नहीं है। सरकार ने मई 2019 में 857 करोड़ रुपए का टैक्स कलेक्शन शराब बिक्री से ही किया था, लेकिन मई 2020 में यह घटकर 697 करोड़ रुपए हो गया।

कम्युनिटी सोशल मीडिया प्लेटफार्म लोकल सर्कल के सर्वे में पता चला कि राजस्थान में 49 प्रतिशत लोगों ने महंगी शराब पीना छोड़ दिया है। इन्होंने सस्ती शराब और बीयर की तरफ रुख किया। दिलचस्प बात यह है कि ये एक बोतल को अब तीन से चार दिन चलाने लगे हैं, जो पहले एक दिन से भी कम समय में खत्म कर देते थे। इस सर्वे में 8300 लोगों ने भाग लिया। इनमें 19 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं। राजस्थान ने इस साल शराब बिक्री से 12500 करोड़ रुपए के टैक्स कलेक्शन का लक्ष्य रखा है।

लोकल सर्कल के जनरल मैनेजर अक्षय गुप्ता ने कहा कि राजस्थान में छह महीने में शराब के टैक्स में जबरदस्त वृद्धि हुई है। इस वजह से शराब की बिक्री में जबरदस्त गिरावट देखने को मिली है। 200 रुपए की बीयर की बोतल टैक्स वृद्धि के कारण 260 रुपए की हो गई।

33 फीसदी लोगों की राय-सरकार कीमतें भी घटाएं तो अब नहीं खरीदेंगे शराब

Q) लॉक डाउन में पैसों की तंगी के बाद क्या वे सस्ती शराब खरीदेंगे या बंद कर देंगे?

14% का कहना था कि वे स्थाई रूप से शराब खरीदने की योजना नहीं बनाते हैं।

49% ने कहा-वे कम कीमत, कम गुणवत्ता वाले उत्पाद की ओर रुख करेंगे। सर्वे में इन लोगों ने माना कि वे एक बोतल अब तीन से चार दिन चला रहे हैं। 37% ने कहा कि वे अपनी शराब पसंद को नहीं बदलेंगे।

Q) यदि सरकार शराब की कीमतें कम करती हैं तो क्या वापस पीना शुरू कर देंगे?

67% लोगों ने कहा कि अगर सरकार टैक्स कम करती है तो शराब की मात्रा में वृद्धि करेंगे। जबकि 33 फीसदी ने कहा कि वे शराब नहीं खरीदेंगे।

Q) लोगों से पूछा गया कि अगर सरकार होम डिलीवरी के जरिए शराब घर तक पहुंचाए तो?
43% प्रतिशत ने कहा कि वे कभी-कभी इस सेवा का उपयोग करेंगे।
29% ने कहा कि वे अपने पसंदीदा ब्रांड को ऑनलाइन ही खरीदेंगे।
28% का कहना था कि वे अभी भी दुकानों से ही खरीदेंगे।

शराब की बिक्री में जबरदस्त गिरावट
मई : मई 2019 की तुलना में मई 2020 में इंडियन मैड फॉरेन शराब की बिक्री में 14.1 और बीयर की बिक्री में 63.9 प्रतिशत की कमी आई है।
जून : जून 2019 की तुलना में जून 2020 में इंडियन मैड फॉरेन शराब की बिक्री में 28.9 और बीयर की बिक्री में 38.5 प्रतिशत की कमी आई है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें