पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Laddu Offered On The Salvation Of Lord Pushpadanta, Special Worship Is Being Done Daily; Lord Jinendra's Peace Stream With Dashlakshana

पर्यूषण पर्व का 5वां दिन:पुष्पदंत भगवान के मोक्षकल्याणक पर चढ़ाया लड्डू, रोजाना हो रही विशेष पूजा; दशलक्षण के साथ भगवान जिनेंद्र की हुई शांतिधारा

सीकर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मंदिर में अभिषेक करते साधक - Dainik Bhaskar
मंदिर में अभिषेक करते साधक

पर्यूषण पर्व के पांचवे दिन सीकर के जैन मंदिरों में उत्तम सत्य धर्म की पूजा हुई। दशलक्षण में विशेष दस तरह की पूजा का विधान है। सरकारी गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए मंदिरों में पूजा अर्चना का दौर चला। भगवान जिनेंद्र का अभिषेक किया गया। भक्तामर के पाठ और बच्चों की फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता भी रखी गई।

श्री दिगंबर जैन भव्योदय अतिशय क्षेत्र रैवासा कमेटी के दीपचंद काला ने बताया कि दसलक्षण पर्व में प्रतिदिन विशेष पूजा का महत्व है। अहिंसा के लिए क्षमा, मार्दव, आर्जव, शौच आत्मा का स्वभाव है। अनुष्ठान में उपदेश दिया गया कि सत्य अपने आप में एक धर्म है। हम कितने सम्प्रदाय बना लें, मज़हब बना लें, पर वास्तविक धर्म तो सत्य और अहिंसा ही रहेगा,क्योंकि मानव को आत्मिक शान्ति मिलेगी तो सत्य और अहिंसा से ही मिलेगी। दशलक्षण पर्व के दस दिनों में उत्तम क्षमा,उत्तम मार्दव,उत्तम आर्जव,उत्तम शौच,उत्तम सत्य,उत्तम संयम,उत्तम तप,उत्तम त्याग,उत्तम आकिंचन और उत्तम ब्रह्मचर्य धर्म की आराधना की जाती है। ये सभी आत्मा के धर्म हैं, क्योंकि इनका सीधा सम्बंध आत्मा के कोमल परिणामों से है।

जैन धर्म मे इस पर्व का विशेष स्थान है क्योंकि इसका सम्बंध किसी व्यक्ति विशेष से न होकर आत्मा के गुणों से है। इसप्रकार यह गुणों की आराधना का पर्व है। इनमें से एक गुण को हासिल करने का साधकों का उद्देश्य है।

विश्व शान्ति और मानव सदा सत्य धर्म का पालन करें इस भावना के साथ जिनेन्द्र भगवान् की शांतिधारा हुई। शांतिधारा में कर्म करने वाले महावीर प्रसाद, मनोज कुमार, महेश कुमार, मनीष कुमार ठोलिया परिवार सीकर बैंगलोर, कमल कुमार विवेक कुमार, राहुल कुमार, अंकित कुमार पाटोदी परिवार सीकर जयपुर, सुरेश कुमार, मनीष कुमार रारा परिवार सीकर, उत्तम कुमार पांड्या परिवार जयपुर, सोहन लाल बाकलीवाल परिवार दीमापुर रहें।

विवेक पाटोदी ने बताया कि सोमवार को कोतवाली रोड स्थित श्रीपद्मप्रभु जैन मंदिर जी में मोटर देवी मातेश्वरी श्री शिखरचंद संगही, नेमी देवी संगही परिवार द्वारा भक्तामर जी के पाठ, जिनेन्द्र प्रभु की महा आरती की गई। नया मन्दिर जी में बच्चों के उत्साहवर्धन और धर्म ज्ञान हेतु फैंसी ड्रेस प्रतीयोगिता का आयोजन किया गया।

खबरें और भी हैं...