• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Martyr's Father Said: After Studies, I Will Dedicate The Grandson To The Service Of The Country, Five year old Son Gave Fire

शहीद को 5 साल के बेटे ने दी मुखाग्नि ​​​​​​​:रोते हुए पिता बोला- पोते को भी सेना में भेजूंगा, तिरंगा यात्रा निकालकर दी अंतिम विदाई

सीकर6 महीने पहले

जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए सीकर के जवान का मंगलवार को अंतिम संस्कार उसके गांव में किया गया। शहीद को विदाई देने 10 किलोमीटर तक तिरंगा यात्रा निकाली गई। रास्ते में लोगों ने फूल बरसाए। 5 साल के बेटे हर्षित ने मुखाग्नि दी।

3 दिन पहले बारामूला सेक्टर में आतंकियों के सर्च ऑपरेशन के दौरान भारतीय सेना के हवलदार भगवानाराम नेहरा शहीद हो गए। पार्थिव देह सोमवार रात सीकर के सैनिक कल्याण बोर्ड ऑफिस पहुंचा। मंगलवार सुबह 9 बजे शव को पैतृक गांव दुगोली ले जाया गया।

जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए भगवानाराम नेहरा ।
जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए भगवानाराम नेहरा ।

पत्नी बेसुध
गांव के लोगों और युवाओं ने पालवास बाईपास से जवान के घर तक करीब 10 किलोमीटर तक तिरंगा यात्रा निकाली। डेढ़ हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए। रास्ते में हर जगह फूल बरसाकर शहादत को सलाम किया गया। शव के घर पहुंचते ही कोहराम मच गया।

मां और पत्नी इंदू देवी रोते-रोते बेसुध हो गई। छोटा भाई पिता 5 साल के भतीजे और पिता को संभालता नजर आया। रोते हुए घरवालों ने जवान को विदाई दी। तिरंगा यात्रा के साथ ही शहीद के पार्थिव देह को अंत्येष्टि के लिए ले जाया गया। इस दौरान सेना के जवान भी मौजूद रहे। देश और शहीद की जय के नारे लगाए गए।

शहीद का 5 साल का बेटा हर्षित (गोद में)।
शहीद का 5 साल का बेटा हर्षित (गोद में)।

बेटे की शहादत पर गर्व
रोते हुए पिता ने कहा कि मेरा बेटा देश की रक्षा करते हुए शहीद हुआ है। मुझे इस बात पर गर्व है। अब पोते को भी पढ़ाई के साथ-साथ सेना की तैयारी करवाकर देश सेवा में समर्पित करूंगा। शहीद के पिता ने कहा कि पहले मेरे पिता सेना में थे। इसके बाद बड़ा भाई और छोटा भाई भी सेना में भर्ती हुए। 1971 में सेना में नौकरी के दौरान ही बड़े भाई की मौत हो गई।

शहीद को तिरंगा यात्रा निकालकर सलामी देते हुए।
शहीद को तिरंगा यात्रा निकालकर सलामी देते हुए।

शेखावाटी के युवाओं में देश भक्ति का जज्बा
एसपी राष्ट्रदीप ने कहा कि शेखावाटी एक मात्र ऐसा क्षेत्र है, जहां से सेना में सबसे ज्यादा जवान भर्ती हुए हैं। यहां के हर युवा के दिल देश भक्ति का जज्बा है। शहीद भगवानाराम की शहादत से युवा प्रेरित होंगे।

विधायक-सांसद नहीं आए
शहीद की अंत्येष्टि में उप जिला प्रमुख ताराचंद धायल,धोद पूर्व विधायक गोवर्धन वर्मा समेत कई जनप्रतिनिधि और राजनैतिक पार्टियों के नेता और कार्यकर्ता भी मौजूद रहे। वहीं जिले के आठों विधायक और सांसद सुमेधानंद सरस्वती नहीं आए।

खबरें और भी हैं...