पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Master Mind Mahendra; Used To Do Fraud In NEET With Operatives Sitting In Kota UP And Delhi, This Time Got Paper From 15 Bogus Students

भास्कर पड़ताल:मास्टर माइंड महेंद्र; कोटा-यूपी और दिल्ली में बैठे गुर्गों के साथ मिलकर करता था नीट में फर्जीवाड़ा, इस बार 15 बोगस स्टूडेंट्स से दिलाया पेपर

सीकर12 दिन पहलेलेखक: यादवेंद्र राठौड़
  • कॉपी लिंक
दिल्ली-कोटा से चला रहे थे गिरोह, इनके जरिए मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाने वाले स्टूडेंट्स की जांच होगी। - Dainik Bhaskar
दिल्ली-कोटा से चला रहे थे गिरोह, इनके जरिए मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाने वाले स्टूडेंट्स की जांच होगी।

नीट एग्जाम में बोगस अभ्यर्थी बिठाने वाले गिरोह के सरगना पिछले तीन साल से पूरे सिस्टम को दिल्ली-कोटा से चला रहे थे। इसके लिए उन्होंने दोनों जगह ऑफिस भी खोल रखे थे। नीमकाथाना का महेंद्र सैनी पूरे सिस्टम का मैनेजमेंट देखता था। पूछताछ में खुलासा हुआ कि नीट 2021 में 15 बोगस स्टूडेंट्स से परीक्षा दिलवाई। एसओजी अब मूल परीक्षार्थियों और उनकी जगह परीक्षा देने वाले बोगस स्टूडेंट्स की धरपकड़ में जुटी है। इस गिरोह में सीकर-झुंझुनूं के 25 स्टूडेंट्स और दलाल शामिल हैं।

लाडनूं थानाधिकरी राजेंद्र कमांडाे ने बताया कि पकड़े गए कोटा के कोचिंग संचालक डाॅ. राजन राजगुरू व नीमकाथाना की ढाणी राजाराम निवासी महेंद्रकुमार सैनी इस गिरोह के मास्टर माइंड हैं। वो नीट की तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स और उनके माता-पिता को झांसे में लेकर एग्जाम पास करवाने के लिए 35-35 लाख रुपए लेते थे।

मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई कर रहे स्टूडेंट्स को 9 से 10 लाख रुपए का लालच देकर बोगस अभ्यर्थी बनाते थे। गिरोह के लोग तीन साल में कई स्टूडेंट्स को नीट पास करवा चुके हैं। इस मामले में अजमेर रेंज आईजी एस सेंगाथिर द्वारा गठित टीम के एएसपी विमल सिंह नेहरा, लाडनूं थाना प्रभारी राजेन्द्र कमांडाे, रामधन चाैधरी व प्रेम अडाणिया अब तक 12 आराेपियाें काे गिरफ्तार कर चुके हैं।

नीमकाथाना का है महेंद्र, पास कराने के लेते थे 35 लाख

अलवर निवासी अर्पित स्वामी व गजेंद्र स्वामी दिल्ली में ऑफिस संभालते थे। वे नीट यूजी सहित अन्य परीक्षाओं में अभ्यर्थियाें काे पास करवाने की गारंटी लेते थे। इसके साथ ही जरूरतमंद मेडिकल स्टूडेंट्स काे पैसाें का लालच देकर बोगस स्टूडेंट्स बनने के लिए तैयार करते थे। पुलिस गिरफ्त में आया तंजीर उर्फ रमेश कोटा के डाॅ. राजन राजगुरु के साथ मिलकर कोटा में नकल गिराेह चला रहा था। वहीं उत्तरप्रदेश का डाॅ. खुर्शीद भी गैंग में शामिल है। वो अभी उत्तराखंड में पदस्थ है।

डाॅ. खुर्शीद गिराेह के सरगना
महेंद्र सैनी का दाेस्त है। खुर्शीद यूपी और उत्तराखंड से नीट यूजी की तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स काे पास करवाने की गारंटी देकर अपने जाल में फंसाता था। खुर्शीद अभी फरार चल रहा है।

अनाेज बिजारणियां

नीमकाथाना के हीरानगर का रहने वाला है। वो मास्टर माइंड महेंद्र सैनी का दोस्त है। उसने काेटा से आरपीएमटी की काेचिंग की थी। महेंद्र उसे भी बोगस अभ्यर्थी बनाना चाहता था। अनोज ने उदयपुर से पशु चिकित्सा का डिप्लोमा कर रखा है। अभी वह इलाहाबाद से एग्रीकल्चर में एमएससी कर रहा है। भरतपुर मेडिकल कॉलेज की छात्रा से उसकी दोस्ती है।

सांवरमल सुनार

सांवरमल सुनार 25 वर्ष पुत्र नत्थूराम सुनार निवासी भड़ुंद बग्गड़, झुंझुनूं का रहने वाला है। बनारस मेडिकल कॉलेज में थर्ड ईयर का छात्र है। इसने जयपुर के एलबीएस में बोगस अभ्यर्थी के रूप में परीक्षा दी थी। सांवरमल इसी साल महेंद्र सैनी के संपर्क में अाया था। पैसे के लालच में वह गिरोह में फंस गया। इसके पिता किसान हैं और सामान्य परिवार से है।

गिरोह की मदद से मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेने वालों की जांच में जुटी टीम
गिरोह ने 2019 व 2020 में भी कई स्टूडेंट्स को नीट पास कराई थी। पुलिस की प्रारंभिक जांच में करीब 25 स्टूडेंट्स के नाम सामने आए हैं। पुलिस अब ऐसे सभी स्टूडेंट्स का डेटा खंगाल रही है। जांच में सामने आएगा कि किस बोगस स्टूडेंट्स को कितना पैसा एडवांस दिया गया।

नीट में फर्जीवाड़े से जुड़े दोनों गिरोह से जुड़ी जरूरी जानकारी

बाेगस स्टूडेंट गिराेह : इस गिराेह का मास्टरमाइंड नीमकाथाना के राजाराम की ढाणी निवासी महेंद्र सैनी है। जाे मेडिकल काॅलेज में पढ़ रहे स्टूडेंट्स काे नीट अभ्यर्थियाें की जगह एग्जाम में बिठाता था। इसमें नीमकाथाना के अनाेज बिजारणियां सहित सात आराेपी पकड़े गए हैं।
पेपर लीक प्रकरण : लिसाड़िया निवासी नवरतन स्वामी, कैरपुरा निवासी रामसिंह कुड़ी सरगना हैं। इन्हाेंने ही मुकेश सामाेता, सुनील यादव, अनिल कुमार यादव, संदीप कुमार जाट, पंकज यादव, सुनील रणवां, दिनेश बेनीवाल के साथ मिलकर लीक पेपर काे एक्सपर्ट से साॅल्व करवाया।

खबरें और भी हैं...