पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर खास:नीट यूजी पेपर टफ व गत वर्ष की तुलना में स्तरीय रहा, एनसीआरटी बेस्ड आया

सीकर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बायाेलाॅजी के तीन सवालाें के मुद्रण, प्रश्न संख्या व एक सवाल के हिंदी अनुवाद में गलती रही। - Dainik Bhaskar
बायाेलाॅजी के तीन सवालाें के मुद्रण, प्रश्न संख्या व एक सवाल के हिंदी अनुवाद में गलती रही।

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ओर से आयाेजित मेडिकल प्रवेश नीट यूजी -2021 रविवार को हुई। स्टूडेंट्स की गहन जांच की गई। दोपहर दाे से शाम पांच बजे हुए नीट का पेपर गत वर्ष की तुलना में स्तरीय रहा। पीसीपी के निदेशक डाॅ. पीयूष सुंडा ने बताया कि हर विषय में सवाल अच्छे और टफ थे, जिससे समय अधिक लगा।

फिजिक्स के कारण प्रश्न-पत्र का स्तर नीट-2020 के पेपर की तुलना में जटिल रहा। डिफीकल्टी लेवल गत वर्ष की तुलना में अधिक था। पेपर एनसीईआरटी बेस्ड रहा। बायाेलाॅजी में कुछ टॉपिक्स जैसे जेनेटिक्स, सेल बायोलॉजी, बायोमोलीक्युल्स व इकोलॉजी ऐसे रहे, जिनके सवाल बॉटनी में भी आए और जूलॉजी में भी आए।

फिजिक्स का पेपर मीडियम रहा

फिजिक्स के पेपर में कुल 50 प्रश्न पूछे गए थे। सबसे ज्यादा 20 प्रश्न इलेक्ट्रोडायनेमिक्स टॉपिक से पूछे गए। इसी प्रकार मैकेनिक्स से 15, हीट से 2, एसएचएम वेव्ज से 2, ऑप्टिक्स से 4 एवं मॉडर्न फिजिक्स एंड इलेक्ट्राॅनिक्स से कुल 7 प्रश्न आए। सेक्शन ए में 35 व सेक्शन बी में 15 प्रश्न पूछे।

सेक्शन ए में 11वीं कक्षा के सिलेबस से 11 व 12वीं कक्षा के सिलेबस से 14 प्रश्न आए। सेक्शन ए में 12 प्रश्न आसान, 20 प्रश्नों का स्तर मध्यम एवं तीन प्रश्नों का स्तर कठिन रहा। इसी प्रकार सेक्शन बी में 11वीं कक्षा के सिलेबस से 6 एवं 12वीं से 9 प्रश्न आए। सेक्शन बी में 3 प्रश्नों का स्तर आसान, 6 मध्यम एवं 6 का स्तर कठिन रहा।

केमेस्ट्री के ज्यादातर सवाल आसान रहे

डाॅ. पीयूष सुंडा ने बताया कि केमेस्ट्री का प्रश्न-पत्र आसान रहने के साथ ही एनसीईआरटी आधारित रहा। फिजिकल केमेस्ट्री में एनसीईआरटी पुस्तक से सीधे न्यूमेरिकल प्रश्न पूछे गए। कुछ प्रश्नों में एकदम नजदीक के विकल्प भी दिए गए। फिजिकल केमेस्ट्री से 16, इनऑर्गेनिक केमेस्ट्री से 17 एवं ऑर्गेनिक केमेस्ट्री से 17 प्रश्न पूछे गए।

सेक्शन ए में 35 प्रश्न आए, जिसमें 11वीं कक्षा के सिलेबस से 15 एवं 12वीं कक्षा से 20 प्रश्न आए। सेक्शन में 14 प्रश्नों का स्तर आसान, 17 मध्यम एवं 4 कठिन स्तरीय रहे। इसी प्रकार सेक्शन बी में कुल 15 प्रश्न आए।

बायाेलाॅजी में कुछ सवालाें में छपने में त्रुटि थी

बायाेलाॅजी के पेपर का कवरेज लगभग 90 प्रतिशत एनसीईआरटी बेस्ड रहा। 100 प्रश्नों में से 5-6 प्रश्न औसत स्तर से जटिल रहे, लेकिन अतिरिक्त प्रश्नों के विकल्प का लाभ विद्यार्थियों को मिला। इस बार सबसे ज्यादा प्रश्न सेल बॉयलोजी, बॉयोमोलीक्यूल्स एवं जेनेटिक्स से पूछे गए।

इसके अलावा तीनों टॉपिक के प्रश्न बाॅटनी व जूलॉजी दोनों में पूछे गए। इकोलॉजी के प्रश्न भी बाॅटनी व जूलॉजी दोनों में पूछे गए। कुछ प्रश्नों के मुद्रण त्रुटि थी। प्लांट किंग्डम में प्रश्न के मुद्रण में गलती से अर्थ गलत था। फ्लोरल फार्मूला के प्रश्न की संख्या गलत थी। एक प्रश्न में हिन्दी की गलती भी रही।

खबरें और भी हैं...