पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नवाचार:अब टमाटर की बेल भी,15 फीट ऊंची बेल पर 10 किलो तक उत्पादन

सीकर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आकवा के किसान हनुमान कृष्णियां को आत्मा याेजना के तहत जिला स्तरीय पुरस्कार

यह 15 फीट लंबी बेल टमाटर की है। यह प्रयोग कर दिया है-आकवा गांव के किसान हनुमान कृष्णियां ने कर दिखाया है। उन्हें बुधवार को हुई आत्मा योजना की मीटिंग में इस नवाचार के लिए कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने 2019-20 का जिला स्तरीय पुरस्कार देकर सम्मानित किया। योजना के डिप्टी डाइरेक्टर सत्यनारायण गढ़वाल ने बताया कि किसान हनुमान ने बेल पर टमाटर उगाकर नई तकनीक विकसित की है।

यह प्रयोग किसान ने साढ़े चार महीने में ही कर दिखाया। इस बेल के जरिए 8 से 10 किलो टमाटर हासिल कर सकते हैं। जबकि सामान्य तरह से उगाने पर एक पौधा ढाई किलो तक टमाटर देता है। उसकी लंबाई भी 2 से ढाई फीट ही होती है।

हिम शिखर के नाम से जानते हैं टमाटर की इस वैरायटी को...बेल धागे के सहारे बढ़ती है

किसान हनुमान कृष्णियां ने बताया कि इस बैल को तैयार करने के लिए साढ़े चार महीने का समय लगा है। अगस्त में नर्सरी तैयार कर उसे सितंबर में खेत में लगाया था। ड्रिप सिस्टम लगाकर उसमें पानी डालना शुरू किया। इस बेल की वैरायटी हिम शिखर के नाम से जानी जाती है। बेल जैसे-जैसे बड़ी होती है तो उसकी मुख्य शाखा को धागे से बांध देते हैं तथा अन्य शाखाओं की कटिंग करनी पड़ती है। अन्य शाखाओं की कटिंग के बाद मुख्य शाखा बचती है। वह धागे के सहारे आगे बढ़ती रहती है। उसके बाद टमाटर लगने शुरू हो जाते हैं। एक बेल पर करीब 10 किलो टमाटर लगते हैं। एक टमाटर का वजन करीब 150 ग्राम होता है।
समझिए सामान्य पौधे और नई तकनीक में क्या अंतर

  • सामान्य पौधे की लंबाई : 2.5 फीट
  • कितने समय में तैयार : 3 महीने उत्पादन : 2 से 2.5 किलो
  • टमाटर का वजन : 90 से 100 ग्राम
  • हिम शिखर की लंबाई : 15 फीट कितने समय में तैयार : 4 से 4.5 माह
  • उत्पादन : 10 किलो
  • टमाटर का वजन : 100 से 150 ग्राम
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए कोई उपलब्धि ला रहा है, उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। कुछ ज्ञानवर्धक तथा रोचक साहित्य के पठन-पाठन में भी समय व्यतीत होगा। ने...

    और पढ़ें