पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Objection From Tehsildar To Secretary Of Government Dismissed, Revenue Minister Reinstated Decision Of Former Collector To Allocate Disputed Land To Khatushyam Temple Committee

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

करोड़ों की जमीन पर विवादों का अभय अनुष्ठान:तहसीलदार से शासन सचिव तक की आपत्ति खारिज, राजस्व मंत्री ने बहाल किया पूर्व कलेक्टर का खाटूश्याम मंदिर कमेटी काे विवादित जमीन आवंटन का फैसला

सीकर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रिटायर्ड आईएएस के परिवार के अभय अनुष्ठान ट्रस्ट को 1997 में गोशाला के लिए आवंटित 14 बीघा जमीन का मामला
  • राजस्व विभाग में अधिकारियों के नियम अलग, मंत्री के अलग : अधिकारियों ने माना था पूर्व कलेक्टर यज्ञमित्र सिंह देव के जमीन आवंटन के निर्णय को नियम विरुद्ध, मंत्री ने सही ठहराया

खाटूश्यामजी मंदिर कमेटी को गोशाला संचालन के लिए आवंटित जमीन की प्रक्रिया को तहसीलदार से कलेक्टर व संभागीय आयुक्त से राजस्व विभाग के शासन सचिव तक सभी अधिकारियों ने गलत माना, लेकिन राजस्व मंत्री के न्यायालय ने इस आवंटन सही ठहरा दिया। राजस्व मंत्री हरीश चौधरी के इस फैसले के खिलाफ अब चौमूं पुरोहितान के ग्रामीण आंदोलन कर रहे हैं।

ग्रामीणों ने रविवार को राजस्व मंत्री हरीश चौधरी का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किया। तत्कालीन कलेक्टर यज्ञ मित्र सिंह देव ने खाटू-रींगस रोड स्थिति बेशकीमती 2.065 हैक्टेयर भूमि खाटूश्यामजी मंदिर कमेटी 20 साल की लीज पर आवंटित की थी। खाटूश्याम कस्बे से सटे व मेन रोड की होने के कारण बेशकीमती यह जमीन 1997 से ही विवादित रही है। सबसे पहले यह जमीन सीकर के कलेक्टर रहे आईएएस अशोक शेखर के परिवार के ट्रस्ट अभय अनुष्ठान को आवंटित हुई थी।

मामले के अनुसार तत्कालीन कलेक्टर यज्ञ मित्र सिंह देव ने तबादले से एक दिन पहले खाटू-रींगस रोड पर 2.065 हैक्टेयर जमीन खाटूश्यामजी मंदिर कमेटी को आवंटित की थी। दो जुलाई को तत्कालीन कलेक्टर को तबादला हो गया। मामले में पूर्व में चौमूं पुरोहितान के ग्रामीणों ने कमेटी को जमीन आवंटित नहीं किए जाने की मांग की थी।

दैनिक भास्कर ने नियम विरुद्ध जमीन आवंटन मामले का खुलासा किया। मुख्यमंत्री के निर्देश पर इसकी जांच शुरू हुई। संभागीय आयुक्त ने कलेक्टर को जांच के लिए आदेश दिए। इस संबंध में कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने जांच रिपोर्ट संभागीय आयुक्त को भिजवाई। प्रकरण में बताया गया कि न्यायालय सहायक फास्ट ट्रैक कोर्ट खंडेला द्वारा स्टे ऑर्डर प्रभावी रहते हुए अभय अनुष्ठान खाटूश्यामजी से श्याम मंदिर कमेटी को आवंटन की कार्रवाई विधि विरुद्ध है।

रिपोर्ट में बताया गया कि पूर्व में भूमि आवंटन सरकार द्वारा किया गया था। ऐसे में कलेक्टर को आवंटन निरस्त करने का अधिकार नहीं था। उक्त स्थिति के लिए प्रकरण आवंटन निरस्तीकरण के लिए सरकार को लिखा गया। जिसमें निर्णय होने से पहले ही तत्कालीन कलेक्टर यज्ञ मित्र सिंह देव ने अपने स्तर पर श्याम मंदिर कमेटी जमीन आवंटित कर दी। जो अधिकार क्षेत्र से बाहर होने के कारण उक्त आदेश निरस्ती योग्य है। इसके बावजूद मंत्री ने सुनवाई में तत्कालीन कलेक्टर के जीन आवंटन के आदेश को बहाल रख दिया।
ग्रामीणों ने राजस्व मंत्री के खिलाफ की नारेबाजी
चौमूं ग्राम पंचायत के लोगों ने राजस्व मंत्री हरीश चौधरी की ओर से दिए गए फैसले के खिलाफ उनका पुतला फूंकते हुए विरोध जताया। सरपंच सुशीला देवी ने बताया कि 350 करोड रुपए की जमीन 330 प्रति वर्ष लीज पर दे दी गई। श्याम मंदिर कमेटी को गोशाला के नाम पर लीज दे दी गई।

तत्कालीन कलेक्टर ने ग्राम पंचायत से किसी तरीके का कोई पत्र व्यवहार नहीं किया। ग्राम पंचायत की अनदेखी करते हुए श्याम मंदिर कमेटी को यह जमीन लीज पर देना गलत है। पूर्व में भी ग्रामीणों की ओर से जिला कलेक्टर को ज्ञापन देकर लीज निरस्त करने की मांग की गई थी।

13 साल बाद रातोंरात दौड़ी फाइलें, तबादले से एक दिन पहले लीज आवंटन किया पूर्व कलेक्टर ने

इस जमीन का मामला रिटायर्ड आईएएस अशोक शेखर के परिवार से जुड़े अभय अनुष्ठान को 1997 में 10 साल की लीज पर आवंटन से ही विवादों में घिरा रहा है। विवादों में आने पर ट्रस्ट ने 2007 में यह जमीन छोड़ दी। तभी से इस पर मंदिर कमेटी का अवैध कब्जा रहा। इसके 13 साल तक यानी अप्रैल 2020 तक किसी अधिकारी ने इस विवाद में पड़ने की कोशिश नहीं की। मंदिर कमेटी इस दौरान भी जमीन को अपने नाम आवंटन के प्रयास करते रहे। पूर्व कलेक्टर यज्ञमित्र सिंह देव ने कमेटी के आग्रह को मान लिया।

जो जमीन 2007 में ही खाली हो गई, और जिस पर अवैध कब्जा रहा, उसे 2020 तक अभय अनुष्ठान के कब्जे में ही बताते हुए आवंटन निरस्त किया। जमीन को सिवायचक घोषित कर कमेटी को लीज पर आवंटन की फाइल तेज रफ्तार से दौड़ी। पंचायत ने आपत्ति भी जताई, पूर्व कलेक्टर ने मामला राजस्व विभाग को मामला भी भेजा। इसी बीच आईएएस तबादला सूची आ गई। इससे एक दिन पहले की तिथि में पूर्व कलेक्टर ने बिना राजस्व विभाग की मंजूरी के 2.065 हैक्टेयर जमीन के 20 साल की लीज आवंटन के आदेश जारी कर दिए।
भूमि स्वामी तहसीलदार, उसकी ही आपत्ति के बावजूद आवंटन

श्रीमाधोपुर तहसीलदार ने तत्कालीन कलेक्टर के निर्देश पर अभय अनुष्ठान का आवंटन निरस्त करते हुए जमीन को सरकारी रिकॉर्ड में सिवायचक दर्ज किया। जांच शुरू होने पर खुद ने मामले की अपील की राजस्व विभाग में की। इस आवंटन को विधिक प्रक्रिया के विपरीत बताया। तहसीलदार ने उल्लेख किया कि अनाधिवासित जमीन ही गोशाला को आवंटित की जा सकती है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें