दाे लहर में 338 माैत इसलिए सावधानी जरूरी:दर्द की ये कहानियां पढ़ें अफसर, क्योंकि सीकर को तीसरी लहर की तरफ धकेल रही है उनकी लापरवाही

सीकर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
स्थ्य विभाग 4 दिन में 1 लाख से ज्यादा किशाेराें काे टीके लगा चुका है। - Dainik Bhaskar
स्थ्य विभाग 4 दिन में 1 लाख से ज्यादा किशाेराें काे टीके लगा चुका है।

कोरोना की पहली व दूसरी लहर में सीकर जिले के 338 लोगों की जान चली गई। कई बुजुर्गाें का सहारा छिन गया, तो कई मासूम अनाथ हो गए, फिर भी अफसर लापरवाह हैं। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अफसराें का यही रवैया हमारे जिले को कोरोना की तीसरी लहर की तरफ धकेल रहा है। मेडिकल एक्सपर्ट ओमिक्राॅन वेरिएंट के म्यूटेट हाेने का अंदेशा जता रहे हैं। उनके अनुसार ओमिक्राॅन और डेल्टा वेरिएंट के मिलकर अटैक करने की संभावना बढ़ रही है।

  • कोरोना का वेरिएंट नया, लेकिन बचाव के लिए पुराना तरीका ही कारगर : यानी मास्क लगाना ही संक्रमण से बचने का सबसे बेहतर विकल्प
  • ...क्योंकि एक्सपर्ट्स के अनुसार किसी से मिलते या बात करते समय आप मास्क लगाए रखते हैं तो 90% कम हो जाता है कोरोना संक्रमण का खतरा

ओमिक्राॅन का संक्रमण थामने में सिस्टम फेल साबित हो रहा है, क्याेंकि संक्रमित/संदिग्ध मरीजाें काे क्वारेंटाइन नहीं किया जा रहा है। न कंटेनमेंट जाेन/बफर जाेन बनाकर सख्ती बरती जा रही है। जिले में पाॅजिटिव और काेराेना संदिग्ध खुलेआम घूमकर काेराेना संक्रमण बांट रहे हैं। इसी लापरवाही के कारण तीन दिन में पाॅजिटिविटी रेट 0.06 से बढ़कर 1.45% तक पहुंच गई। यानर 100 सैंपलाें की जांच में 2 पाॅजिटिव मिलने लगे हैं। पिछले तीन दिन में 3427 सैंपल लिए और 50 मरीज मिल चुके हैं। गुरुवार काे 12 कोरोना पाॅजिटिव मिले। इनमें 9 काे काेराेना के लक्षण हैं। संक्रमितों में डाॅक्टर और पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।

1. सांगरवा के शंकरलाल कई दिनाें से बीमार हैं। पैराें में दर्द और दूसरी बीमारियां भी हैं। गुरुवार सुबह हाॅस्पिटल में चैकअप के लिए पहुंचे। यहां शंकरलाल का आरटी-पीसीआर सैंपल लिया। इसके बाद वे घर पहुंच गए। उन्हें आइसाेलेट रहने के लिए भी पाबंद नहीं किया। गुरुवार शाम काे वे गांव में पहुंचे और हनुमान मंदिर में कई लाेगाें से मिलते रहे।

2. दादिया के नरपतसिंह काे कई दिनाें से खांसी-जुकाम यानी काेराेना के लक्षण हैं। गुरुवार काे नरपतसिंह गांव की पीएचसी पर दवा लेने पहुंचे। इस दाैरान नरपतसिंह का आरटी-पीसीआर सैंपल लिया। लेकिन उन्हें घर में आइसाेलेट रहने के लिए पाबंद नहीं किया। इसलिए वे गांव में दिनभर घूमते रहे। इस दाैरान वे तीन दर्जन लाेगाें से ज्यादा मिले।

3. दादिया के पंकज ने गुरुवार काे आरटी-पीसीआर सैंपल दिया। वे पीएचसी पर चैकअप के लिए गए थे। पंकज काे खांसी-जुकाम है। सैंपल देने के बाद पंकज दाेस्ताें के साथ हर्ष पर्वत घूमने गए और इस दाैरान वह कई लाेगाें से मिले। इसलिए संपर्क में आए लाेगाें के लिए खतरा बढ़ गया है।

वीटीएम का स्टाॅक मिल चुका है। संदिग्ध और पाॅजिटिव मरीजाें काे क्वारेंटाइन किया जा रहा है। उन्हें घर में रहने के लिए पाबंद कर रहे हैं। कंटेनमेंट जाेन का फैसला संयुक्त हाेता है। फिर भी जिस इलाके में पाॅजिटिव मिल रहे हैं, वहां आवाजाही काे सीमित किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग लाेगाें काे बचाने के लिए सतर्क है। -*डाॅ. सीपी ओला, डिप्टी सीएमएचओ

इस रफ्तार से 14 तक हो जाएगा 100% वैक्सीनेशन

स्वास्थ्य विभाग 4 दिन में 1 लाख से ज्यादा किशाेराें काे टीके लगा चुका है। 3 जनवरी से शुरू हुए अभियान में 15 से 18 एज ग्रुप के 1 लाख 977 किशाेराें का टीकाकरण किया जा चुका है। गुरुवार काे 1389 किशाेराें काे टीके लगाए। यही रफ्तार रही, ताे 14 जनवरी तक टारगेट पूरा हो जाएगा। क्याेंकि जिले में 2.50 लाख से ज्यादा किशाेराें काे टीके लगने हैं। इनमें 1 लाख से ज्यादा किशाेराें का टीकाकरण 4 दिन में किया जा चुका है। इधर, गुरुवार को जिले में 9345 लोगों का टीकाकरण किया गया। 3609 लोगों को पहली व 6736 लोगों को दूसरी डोज लगाई गई। 18 से 44 आयु वर्ग के 1864 युवाओं को पहली डोज लगाई गई। 5039 को द्वितीय डोज लगाई गई। वहीं 45 से अधिक आयु के 289 को पहली और 1048 को द्वितीय और 60 व इससे अधिक आयु के 67 को पहली और 649 को द्वितीय डोज लगाई गई।

किशाेराें के टीकाकरण काे लेकर हम मेगा वैक्सीनेशन अभियान की प्लानिंग में जुटे है। वैक्सीन की सप्लाई मिलते ही टीकाकरण काे रफ्तार दी जाएगी। हम चाहते है कि 8 से 10 में दिन में सभी किशाेराें काे टीकाकरण हाे जाए।

डाॅ. निर्मलसिंह, आरसीएचओ,सीकर

खबरें और भी हैं...