पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गहन दस्त नियंत्रण अभियान शुरू:स्वास्थ्य संस्थानों पर बच्चों को ओआरएस घोल पिलाया

सीकरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

स्वास्थ्य विभाग का सशक्त दस्त नियंत्रण अभियान बुधवार से शुरू हुआ। चिकित्सा संस्थानों व आंगनबाड़ी केंद्रों पर ओआरएस जिंक कॉर्नर बनाकर पांच वर्ष तक की आयु के बच्चों को ओआरएस का घोल पिलाकर अभियान की शुरुआत की गई। सीएमएचओ डॉ. अजय चौधरी ने बताया कि दस्त गंभीर रोग है। पांच साल की उम्र तक के बच्चों को डायरिया के दौरान पानी की कमी को दूर करने के लिए ओआरएस का घोल पिलाना चाहिए। इससे बच्चे के शरीर में पानी कमी को दूर किया जा सकता है। वहीं बच्चों को जिंक की गोली देनी जरूरी है।

एडिशनल सीएमएचओ डॉ. हर्षल चौधरी ने बच्चों को तंदुरूस्त रखने के उपायों की जानकारी देते हुए बताया कि खाने और शौच से पूर्व ठीक प्रकार से हाथ धोने से बीमारियो से बचा जा सकता है। दस्त के दौरान कभी भी बच्चों के खाने को बंद नहीं करना चाहिए। खाना बंद करने से बच्चे की सेहत को अधिक नुकसान पहुंचता है।

उन्होंने प्रत्येक दस्त के बाद बच्चों को ओआरएस का घोल पिलाए जाने और नियमित रूप से 14 दिनों तक जिंक की गोलियां खिलाने की बात कही। आईईसी समन्यवक कमल गहलोत ने भी अभियान से अवगत कराया। अभियान में पांच वर्ष तक के बच्चों वाले सभी घरों में आशा सहयोगिनियों द्वारा ओआरएस पैकेट, जिंक टेबलेट व सूचनाप्रद सामग्री पहुंचाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...