पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

टिडि्डयों का खात्मा:खरपतवार नष्ट करने के लिए कीटनाशक छिड़का, 15 बीघा में बाजरे की फसल जली

सीकर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • धोद का मामला, किसान ने शिकायत देकर कीटनाशक की गुणवत्ता जांच की मांग की
Advertisement
Advertisement

खरपतवार नष्ट करने के लिए छिड़काव किए जाने वाले कीटनाशक फसलों के लिए घातक बनकर उभर रहे हैं। कृषि विभाग को आए दिन किसान कीटनाशकों के छिड़काव से फसलें नष्ट होने की शिकायत करने लगे हैं। शुक्रवार को धोद निवासी किसान सुखदेव आराम ने खरपतवार नाशी कीटनाशक छिड़काव के बाद 15 बीघा में बाजरा की फसल नष्ट होने की शिकायत की है। किसान सुख देवाराम ने बताया कि उसने कृषि उपज मंडी के सामने स्थित बीज की दुकान से कीटनाशक खरीद किया था।

छिड़काव के बाद ही 15 बीघा में बाजरे की फसल मुरझाने लग गई। 1 सप्ताह में खेत पूरी तरह से खाली हो गया। किसान ने इस संबंध में कृषि उपनिदेशक को लिखित शिकायत देकर कीटनाशक की गुणवत्ता जांच कराने की मांग की है। इधर हालात को देखते हुए माकपा जिला सचिव किशन पारीक ने भी कृषि विभाग से लगातार बढ़ रही कीटनाशक व बीज की गुणवत्ता की शिकायतों को देखते हुए जांच कराने की मांग की है।

इसी तरह रामपुरा के किसान कृषि विभाग को 9 बीघा में खरपतवार नाशक कीटनाशक के छिड़काव से ग्वार की फसल नष्ट होने की शिकायत की थी। इधर कृषि उपनिदेशक शिवजी राम कटारिया का कहना है की किसानों की शिकायत के आधार पर कीटनाशक की गुणवत्ता जांच करवाने के बाद ही वास्तविकता का पता चल पाएगा।

एक्सपर्ट व्यू : खरपतवार नाशक का सावधानी से उपयोग करें
फतेहपुर कृषि अनुसंधान केंद्र के सेवानिवृत्त कृषि वैज्ञानिक डॉ. सहदेवसिंह का कहना है कि खरपतवार नाशी कीटनाशक डालते समय किसान को एहतियात रखने की बेहद जरूरत है। कीटनाशक छिड़काव से फसल नष्ट होने की तीन बड़ी वजह सामने आती रहती हैं। पहली किसान के द्वारा छिड़काव से पहले स्प्रे टंकी को ठीक से साफ नहीं करना। दूसरा खरपतवार बड़े होने के बाद कीटनाशक का उपयोग करना। तीसरा विक्रेता के द्वारा रबी सीजन में होने वाली खरपतवार की कीटनाशक खरीफ फसलों के लिए देना।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement