पुलिस ने लाठीचार्ज कर प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा:आवासीय कॉलोनी में मोबाइल टावर के विरोध में सड़क पर उतरे लोग, जाम रास्ता खुलवाने के लिए पुलिस ने की समझाइश, नहीं मानने पर किया बल प्रयोग

सीकरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जाम पर बैठे लोगों पर लाठीचार्ज करती पुलिस। - Dainik Bhaskar
जाम पर बैठे लोगों पर लाठीचार्ज करती पुलिस।

सीकर के देवीपुरा रोड स्थित वार्ड नंबर 41 में एक निजी कंपनी की ओर से लगाए जा रहे मोबाइल टावर का कॉलोनी के लोगों ने सोमवार को विरोध किया। कॉलानी के लोगों ने रास्ता जाम कर विरोध प्रदर्शन कर नारेबाजी की। करीब एक घंटे तक मोहल्ले के करीब 40-50 लोग बीच सड़क पर बैठे रहे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने समझाइश की। प्रदर्शनकारियों के नहीं मानने पर पुलिस ने लाठी चार्ज कर उन्हें वहां से खदेड़ा। पुलिस ने शांतिभंग के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। लाठीचार्ज में एक महिला का होठ के कट लग गया।

मामला शहर के वार्ड नंबर 41 में 2 नंबर डिस्पेंसरी के पास विजय टेलर की गली का है। जहां पर जीवण चौधरी अपने हॉस्टल के ऊपर रिलायंस जिओ कंपनी का मोबाइल टावर लगाया जा रहा है। पिछले कई दिनों से कॉलोनी के लोग इसका विरोध कर रहे थे। लोगों ने 3 दिन पहले नगर परिषद आयुक्त को ज्ञापन भी दिया था। सोमवार सुबह भी मोहल्ले के लोग इस संबंध में नगर परिषद सभापति से मिले। लेकिन, दोपहर तक परिषद की ओर से कार्रवाई नहीं हुई। कॉलोनी के 40-50 लोग दोपहर करीब 2 बजे देवीपुरा रोड पर बीच सड़क पर बैठ गए और जाम लगा दिया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने समझाइश की, लेकिन प्रदर्शन कर रहे लोग रास्ता जाम कर नारेबाजी करते रहे। जिसके बाद पुलिस ने लाठी जार्च कर प्रदर्शनकारियों को खदेड़ कर यातायात को सुचारू करवाया। लाठीचार्ज में घायल महिला सुमित्रा सैनी ( 40 ) को प्राथमिक उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। पुलिस ने शांतिभंग के आरोप में रमेश सैनी ( 55 ), सौरभ सैनी (18) और विजेंद्र सैनी (19) को गिरफ्तार किया है।

जानकारी देते हुए मोहल्लेवासी राजेंद्र सैनी ने बताया कि मोहल्ले में लग रहे रिलायंस जिओ कंपनी द्वारा लगाए जा रहे मोबाइल टावर का विरोध हम पिछले कई दिनों से कर रहे हैं। मोबाइल टावर को हटाने की मांग को लेकर हम पहले भी नगर परिषद आयुक्त से मिले थे। और सोमवार सुबह भी नगर परिषद सभापति को भी ज्ञापन दिया। इसके पश्चात हम नगर परिषद आयुक्त से भी मिले उन्होंने हमें कहा कि हम मोबाइल टावर की परमिशन को वापस नहीं ले सकते हैं। ऐसे में हमने रास्ता जाम कर दिया। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और बिना कोई बात किए ही हमारे साथ मारपीट करने लगी। राजेंद्र ने कहा कि पुलिस के इस रवैये का हम पुरजोर विरोध करते है। और यदि मोबाइल टावर को जल्द से जल्द नहीं हटाया जाता है तो हम बड़ा आंदोलन करेंगे।

खबरें और भी हैं...