तालिबानी हत्याकांड के विरोध में सीकर में निकाला मौन जुलूस:पुलिस ने ड्रोन से रखी नजर, साधु-संतों भी हुए शामिल

सीकर5 महीने पहले
मौन जुलूस में शामिल लोग।

उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल की तालिबानी तरीके से हत्या के विरोध में आज सीकर शहर में मौन जुलूस निकाला गया। जुलूस रामलीला मैदान से शुरू होकर कलेक्ट्रेट पहुंचा। इस दौरान पुलिस जाब्ता के साथ ही आरएसी के जवानों निगरानी की। पुलिस ने हर पॉइंट पर ड्रोन से नजर रखी थी। सुरक्षा को देखते हुए दोपहर 2 बजे तक नेट भी बंद किया गया था।

जुलूस सुबह 9 बजे रामलीला मैदान से शुरू होकर सूरजपोल गेट, जाट बाजार होते हुए कलेक्ट्रेट पहुंचा। सुबह से ही शहर के हर पॉइंट पर पुलिस जाब्ता तैनात किया गया। पुलिस ने ड्रोन से पूरे शहर की निगरानी रखी। हर गली- मोहल्ले और घरों की छतों पर ड्रोन फुटेज लिए गए। शहर में स्थानीय पुलिस के अलावा 600 आरएसी के जवानों ने सुरक्षा व्यवस्था संभाले रखी। साथ ही पुलिसकर्मियों ने छत्तों से भी दूरबीन से निगरानी रखी।

7 दिन में हत्यारों को फांसी हो
लोहार्गल धाम के महंत अवधेशाचार्य ने कहा कि ऐसी भी किसी घटना को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। आज मौन जुलूस निकालकर यह सन्देश दिया गया है कि ऐसी घटनाएं आगे भी हुई तो इस मौन को तोड़ दिया जायेगा। ऐसी जगण्य अपराध करने वालों को छोड़ा नहीं जाना चाहिए। हत्यारों को 7 दिन में फांसी की सजा होनी चाहिए। रेवासा के जानकीनाथ मंदिर महंत राघवचार्य ने कहा कि यदि पुलिस और प्रशासन से दबाव हटा लिया जाए तो ऐसी कोई भी घटना नहीं होगी। घटना होने के पहले ऐसी दरिंदो को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती ने कहा कि अमरावती और उदयपुर में जो घटनाएं हुई है। उसके विरोध में आज वाणी की बजाय मौन रहकर प्रशासन से न्याय माँगा गया है। उम्मीद है कि जल्द हत्यारों को उनके पापों की सजा मिलेगी ।

सीकर में दोपहर 2 बजे तक नेट बंद

टेलर कन्हैया लाल की हत्या के बाद एहतियात के तौर पर पूरे प्रदेश में इंटरनेट पर पाबंदी लगा दी गई। रविवार शाम सभी जगह नेट वापस शुरू कर दिया गया। लेकिन सीकर में मौन जुलूस को देखते हुए जयपुर संभागीय आयुक्त विकास सीताराम भाले ने आदेश जारी कर 3 जुलाई शाम 6:00 से 4 जुलाई दोपहर 2:00 बजे तक 20 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद की है।

कल्याण सर्किल पर मौजूद पुलिस जाब्ता।
कल्याण सर्किल पर मौजूद पुलिस जाब्ता।
जुलूस की ड्रोन और दूरबीन से निगरानी रखी गई।
जुलूस की ड्रोन और दूरबीन से निगरानी रखी गई।
कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी को राज्यपाल और राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया गया।
कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी को राज्यपाल और राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया गया।
जुलूस में सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती समेत जिले के कई महंत और धर्मगुरु भी शामिल हुए।
जुलूस में सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती समेत जिले के कई महंत और धर्मगुरु भी शामिल हुए।