एक चिता पर दो अंत्येष्टि:सुबह पत्नी के अंतिम संस्कार की तैयारियां हो रही थी, पति ने भी दम तोड़ा, एक चिता पर अंत्येष्टि

सीकर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रामगोपाल व भंवरी देवी। - Dainik Bhaskar
रामगोपाल व भंवरी देवी।
  • काछवा का मामला, सात घंटे में दोनों ने त्यागे प्राण

फिल्मों व कहानियों में पति-पत्नी के साथ जीने और साथ मरने की बातें खूब सुनी होंगी लेकिन गुरुवार को लक्ष्मणगढ़ उपखंड के गांव काछवा में यह हकीकत में चरितार्थ हो गई। जानकारी के मुताबिक काछवा निवासी रामगोपाल शर्मा (78) व उनकी पत्नी भंवरी देवी (75) का सात घंटे के अंतराल में ही निधन हो गया और दोनों का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया।

बड़ा बेटा शंकर लाल ने बताया कि माता-पिता महज सात घंटे के अंतराल में प्राण त्याग दिए। दोनों का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया। माता भंवरी देवी लंबे समय से डायबिटीज से पीड़ित थी। बुधवार देर रात करीब डेढ़ बजे मां की तबीयत खाराब हुई और दम तोड़ दिया।

रात भर सभी शोक में बैठे रहे। सुबह अंतिम संस्कार की तैयारियों में लगे थे। कुछ लोग गमगीन बैठे पिता रामगोपाल शर्मा (भाटीवाड़ा) को बतलाया तो उन्होंने कहा बस अब मन भी जाबा द््यो और वहीं प्राण त्याग दिए। पूरा परिवार हतप्रभ रह गया। इसके बाद एक ही चिता पर दोनों का अंतिम संस्कार किया गया। बेटे शंकरलाल ने मुखाग्नि दी। रामगोपाल के दो पुत्रों व तीन बेटियां समेत पांच संतान हैं।

खबरें और भी हैं...