रामायण पाठ का आयोजन:गोमाता को लंपी से बचाने के लिए रामायण पाठ किए

सीकर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ग्राम पंचायत कुड़ली के युवाओं की टीम 22 दिन से लंपी पीड़ित निराश्रित गोवंश की सेवा में जुटी हुई है। बड़ी संख्या में गांव के युवा एकजुट होकर पशुओं को लम्पी वायरस से बचाने के लिए दवाइयां और खल-चूरी खिला रहे हैं। महेश ओला ने बताया कि आवारा पशुओं को बचाने के लिए डॉ. मनोज कांसल और डॉ. सुरेन्द्र फेनिन के निर्देशन में युवा नियमित गोसेवा कर रहे हैं।

सेवा की मुहिम में नरसी लाल कुड़ी, सुमेर फेनिन, अजीत सिंह, वीरेन्द्र सिंह, राजपाल, महेंद्र, गणेश ओला, सुरेश सैनी, किशोर कुमार, हरीश, ओमप्रकाश गोरा, हंसराज ओला सहित अनेक युवा सम्मिलित हैं। गोसेवा में गांव के सुल्तान सिंह ओला, भागीरथ मल,

तिरुपति ओला, जगनसिंह बगड़िया, अमृता रूहेला, मुकेश लुहानी, धर्मवीर ओला, जवाहर सिंह, सुनील कुलहरि, केशर ढाका, सुशीला, गायत्री, प्रीति भार्गव, जगन जाखड़, श्रवण चौधरी, संजय चौधरी, नवीन शर्मा, दिनेश शर्मा, राजू सैनी, ओमप्रकाश सैनी सहित अनेक भामाशाहों ने अब तक सहयोग दिया है। बानूड़ा में गोमाता को लंपी से बचाने के लिए दो दिवसीय अखंड रामायण पाठ और महायज्ञ किया गया। पूर्णाहुति में रविवार को बड़ी संख्या में गणमान्य जन मौजूद रहे।

इस मौके पर गोवंश के लिए पूरे गांव में दवा वितरण की गई। समाजसेवी अभिषेक शर्मा ने लम्पी वायरस को महामारी घोषित करने की आवश्यकता जताई। कार्यक्रम में पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष प्रीतम शर्मा, मोहित शर्मा, नितेश शर्मा, आशीष शर्मा आदि उपस्थित थे।

सांवलोदा लाडखानी में गोमाता को पौष्टिक आहार खिलाया। युवाओं ने औषधि से बने लड्डू, दलिया व पारीक सोशल ग्रुप द्वारा होम्योपैथिक दवा दी गई। इन सभी गोमाता को युवाओं ने पांच दिन के लिए क्वारेंटाइन किया है। पारीक सोशल ग्रुप के मुरारी पारीक, सांवलोदा लाडखानी के विशाल शर्मा, सुरेंद्र सिंह, सुभाष जांगिड़, राकेश पंच, गजेंद्र सिंह, विकास मेघवाल, महिपाल सिंह आदि थे।

खबरें और भी हैं...