अस्पताल का सिस्टम फेल:रेगुलेटर खत्म हुए, नए मरीज भर्ती करना बंद

सीकर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में गुरुवार को 849 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले और 10 संक्रमितों की मौत हो गई। अप्रैल में 46 मौत हो चुकी है। एक्टिव मरीज 5898 हो गए हैं। गुरुवार को सीकर शहर में 184 जने पॉजिटिव मिले है। फतेहपुर में 91, खंडेला ब्लॉक में 104, कूदन में 22, लक्ष्मणगढ़ में 77, नीमकाथाना में 127, पिपराली में 103, श्रीमाधोपुर में 136 और दांता में 5 नए कोरोना पॉजिटिव मिले। गुरुवार को 409 को डिस्चार्ज किया गया।
मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच कोविड अस्पतालों की सांसें फूलने लगी हैं। निजी कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन खत्म हो गई, जबकि सांवली के कोविड हॉस्पिटल में सिलेंडरों के रेगुलेटर खत्म हो गए। ऐसे में सांवली में नए मरीजों को भर्ती नहीं किया। गुरुवार देर रात संक्रमित मरीज इलाज के लिए एसके और सांवली हॉस्पिटल के बीच चक्कर काटते रहे। दोनों जगह बेड खाली नहीं होने और ऑक्सीजन सिलेंडर के रेगुलेटर न होने का हवाला देकर लौटा दिया।
हमारे पास सिलेंडरों के रेगुलेटर नहीं हैं। हम मरीज को एडमिट करें तो कहां करें। रात को कई मरीजों को जयपुर जाने के लिए कहना पड़ा। -डॉ. सुरेन्द्र, ड्यूटी डॉक्टर सांवली

बुजुर्ग महिला को भर्ती नहीं किया, वहीं बैठी रहीं
रींगस की झुमा देवी को गुरुवार रात 11 बजे परिजन सांवली हॉस्पिटल लाए। उनका एचआर-सीटी स्कोर 15 था और सांस लेने में तकलीफ थी। ड्यूटी डॉक्टर ने रेगुलेटर नहीं होने की बात कहकर परिजनों से ही व्यवस्था करने के लिए कहा। इस दौरान झुमादेवी काफी देर तक परिसर में ही बैठी रहीं।
गुरुवार रात 10 बजे तक शहर के कोविड हॉस्पिटलों में ऑक्सीजन की किल्लत बढ़ गई थी। वात्सल्य हॉस्पिटल में 12 व श्रीराम ट्रोमा सेंटर में महज 2 सिलेंडर थे। मित्तल हॉस्पिटल में भी ऑक्सीजन की किल्लत बढ़ गई है। हालांकि देर रात तक शहर में ऑक्सीजन सप्लाई के प्रयास किए जाते रहे। प्रशासन ने 250 सिलेंडर ऑक्सीजन पहुंचने का दावा किया है।

खबरें और भी हैं...