• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Sarees Were To Be Worn In Natin's Mausoleum, Tractor trolley Driver Crushed The Woman Who Was Going To Take A Bike With Her Son And Escaped

शादी की खुशियाें में मौत का दर्द:नातिन के मौसाले में साड़ियां ओढ़ानी थी, बेटे के साथ बाइक से लेने लाखेरी जा रही महिला को ट्रैक्टर-ट्रॉली चालक कुचलकर फरार

सीकर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लाखेरी. सरकारी अस्पताल परिसर में पोस्टमार्टम कक्ष के बाहर परिजनों से कार्यवाही करते पुलिसकर्मी। - Dainik Bhaskar
लाखेरी. सरकारी अस्पताल परिसर में पोस्टमार्टम कक्ष के बाहर परिजनों से कार्यवाही करते पुलिसकर्मी।
  • खरायता गांव में हादसे से परिवार में काेहराम मचा

लाखेरी से 7 दिन दूर खरायता गांव के किसान राजाराम को क्या पता था कि जिस नातिन की शादी में उसकी पत्नी मन्नीबाई भाग-भाग कर तैयारी में लगी है, उसी तैयारी में घर से बाहर मौत उसका इंतजार कर रही है। मौसाला (मायरा) में देने के लिए जब कुछ साड़ियाें की कमी महसूस हुई तो मन्नीबाई अपने बेटे मस्तराम काे लेकर घर से बाइक पर लाखेरी के लिए रवाना हाे गई, जहां से जरूरी खरीदारी करके उसे लाैटने की जल्दी थी।

अभी बाइक बस्ती से थोड़ी दूर ही निकली थी कि पीछे से आ रही बेकाबू ट्रैक्टर-ट्रॉली ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी। टक्कर लगते ही बाइक पर पीछे बैठी मन्नीबाई बेसुध हाेकर गिर गई, पलभर में ट्रैक्टर-ट्रॉली उसे कुचलती हुई निकल गई। बेटे की आंखाें के सामने मां की सांसें थम गई। हादसे में बेटे मस्तराम को चोटें आई है।

अचानक हुए इस घटनाक्रम से से गांव में कोहराम मच गया। हालात की गंभीरता और क्षेत्रवासियाें में उपज रहे आक्राेश काे देखकर ट्रैक्टर-ट्रॉली काे वहीं पर छाेड़कर चालक फरार हो गया, लेकिन मन्नीबाई के अरमान कुचल गया। राजाराम को इत्तला मिली तो बदहवास घटनास्थल पर दौड़ा, जहां पर हादसे का मंजर देख बेसुध हो गया। बाद में मन्नीबाई को लाखेरी अस्पताल लाए, जहां डाॅक्टर ने जांच करके मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने जरूरी कागजी कार्रवाई कर पोस्टमार्टम करवाया और शव परिजनों के सुपुर्द किया है। ट्रैक्टर-ट्रॉली काे पुलिस ने जब्त कर लिया। चालक की रात तक पहचान की जा रही थी।

बेतरतीब दाैड़ाते हैं ट्रैक्टर

खरायता और आसपास के ग्रामीणों में हादसे को लेकर गहरा आक्राेश छा गया। उन्हाेंने आराेप लगाया है कि ट्रैक्टर चालक अक्सर गांवों में से तेज गति से निकलते हैं। रात-दिन बेतरतीब दाैड़ाते हैं। पुलिस इनकी रफ्तार पर भी अंकुश नहीं लगा पाई है, जिससे वाहन चालक और क्षेत्रवासी सहमे रहते हैं, क्याेंकि तेज स्पीड से हादसे की आशंका हमेशा बनी रहती है।

खबरें और भी हैं...