प्रदेश के 1000 खिलाड़ियों को नुकसान:SGFI का राष्ट्रीय खेल कैलेंडर अभी तक जारी नहीं, इनमें मेडल हासिल करने वालों को नौकरी में मिलता है फायदा

सीकर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेडल जीतने के लिए दिन-रात तैयारी में जुटे हैं खिलाड़ी - Dainik Bhaskar
मेडल जीतने के लिए दिन-रात तैयारी में जुटे हैं खिलाड़ी

स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की ओर से राष्ट्रीय स्कूल खेलकूद प्रतियाेगिताओं का कैलेंडर जारी नहीं किए जाने से प्रदेश के करीब एक हजार और जिले की 80 खेल प्रतिभाओं की मेहनत बर्बाद हाे रही है। युवाओं काे सरकारी नाैकरियाें में दाे फीसदी खेल काेटे से वंचित हाेना पड़ रहा है। जबकि नियमानुसार आयाेजन से डेढ़ महीने पहले खेल कलेंडर जारी कर दिया जाना था। इस साल ब्लाॅक, जिला व राज्य स्तरीय खेल प्रतियाेगिताएं हाे चुकी हैं। इनमें विजेता खिलाड़ियाें काे राष्ट्रीय स्तर पर खेलने का माैका मिलता है। वहीं पिछले साल काेविड के कारण राष्ट्रीय खेल प्रतियाेगिताएं जारी नहीं हो पाई थी।

अब एक बार फिर कोरोना के बढ़ते मामले खेल कैलेंडर पर मंडरा रहे हैं। माध्यमिक शिक्षा निदेशालय बीकानेर की ओर से नवंबर में जिला व राज्य स्तरीय स्कूल खेलकूद प्रतियाेगिताओं का आयाेजन करवाया था। एसजीफआई की ओर से सत्र 2019-20 में राष्ट्रीय स्कूली खेलकूद प्रतियाेगिताएं आयाेजित हुई थी। इसमें भी आखिरी समय में काेविड के कारण तीन प्रतियाेगिताएं नहीं हाे पाईं थीं। पिछले साल कोविड के कारण खेल प्रतियोगिताओं का पूरा कार्यक्रम रद्द रहा। स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिय की ओर से राज्य स्तरीय प्रतियाेगिताओं के ठीक बाद नवंबर तक राष्ट्रीय स्कूली खेलकूद प्रतियाेगिताओं का खेल कैलेंडर जारी कर दिया जाता है। ताकि दिसंबर से जनवरी तक राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताएं करवाई जा सके। लेकिन समय पर खेल कलेंडर जारी नहीं होने से प्रतियोगिताओं का

मेडल जीतने के लिए दिन-रात तैयारी में जुटे हैं खिलाड़ी
खिलाड़ी खेल प्रदर्शन के साथ ही क्वालिफाइंग टाइमिंग के अनुसार राष्ट्रीय स्तर पर हाेने वाली प्रतियाेगिताओं में हिस्सा लेने के लिए दिन-रात तैयारी में जुटे हुए हैं। लेकिन स्कूल स्पाेर्ट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की ओर से कैलेंडर जारी नहीं होने और फिर से कोरोना के बढ़ने के कारण अब उम्मीदों पर पानी फिरता नजर आ रहा है।

एसजीएफआई में हिस्सा लेने वाले कई खिलाड़ी लग चुके सरकारी नाैकरी : स्विमिंग में 2019-20 में हुई राष्ट्रीय खेलकूद स्वमिंग काॅम्पीटिशन में प्रदेश के कुल 36 में से 12 खिलाड़ी सीकर जिले के थे। जिनमें से दाे स्वीमर आकाशदीप व अजय डागर की राजस्थान पुलिस में नाैकरी लग चुकी हैं। वहीं कासी बास की बास्केटबाॅल की खिलाड़ी सरिता बिजारणियां राजस्थान पुलिस में नाैकरी लग चुकी हैं।

राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में 108 टीमें विजेता रही
खेल विशेषज्ञ के अनुसार 2021-22 में निदेशालय ने 18 खेलाें में 14 वर्षीय, 17 व 19 वर्षीय आयु वर्ग में जिला व राज्य स्तरीय स्कूल खेल प्रतियाेगिताएं हुई है। तीनों स्तर पर अलग-अलग ग्रुप की 108 टीम राज्य स्तरीय प्रतियाेगिताओं में विजेता घोषित की गई। इनमें प्रदेशभर के करीब एक हजार खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं की तैयारी में जुटे हैं।

विजेता खिलाड़ियाें के नामाें की सूची तैयार : माध्यमिक शिक्षा निदेशालय, बीकानेर ने राष्ट्रीय स्कूली खेलकूद प्रतियाेगिताओं में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियाें का चयन कर सूची तैयार कर रखी है। एसजीफआई द्वारा राष्ट्रीय प्रतियाेगिताओं की तिथि घाेषित हाेने के बाद खिलाड़ियों के नाम जारी किए जाते हैं। ताकि खिलाड़ियाें को कैंप में तैयारी करवाई जा सके। इसका सारा खर्चा सरकार वहन करती है। सीकर जिले से सबसे ज्यादा बास्केटबाॅल, खाे-खाे, स्विमिंग, वाॅलबाॅल, हैंडबाॅल, साॅफ्टबाॅल, एथलेटिक्स में भी सीकर के खिलाड़ी शानदार प्रदर्शन करते हैं। लेकिन कैलेंडर के अभाव में खिलाड़ियों की सूची भी जारी नहीं की गई है।

खबरें और भी हैं...