• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Sikar District Tops In Opening Crime; All 24 SHOs Are Laggy In Settling Pendency, The Worst Is The Record Of Losal Police Station

42 फीसदी तक पहुंची पेंडेंसी:वारदात खोलने में सीकर जिला अव्वल; पेंडेंसी निबटाने में सभी 24 थानाधिकारी फिसड्‌डी, सबसे खराब है लोसल थाने का रिकॉर्ड

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
थानाें में लंबित मामले। - Dainik Bhaskar
थानाें में लंबित मामले।

पुलिस मुख्यालय ने 30 नवंबर तक जिलेभर के 24 थानाें की पेंडेंसी रिपाेर्ट जारी की है। इसमें पीएचक्यू से निर्धारित गाइड लाइन के तहत सभी थाने पेंडेंसी निबटाने में फेल साबित हाे रहे हैं, जबकि साल गुजरने में केवल एक महीना दिसंबर शेष बचा है। पेंडेंसी निबटाने में सबसे ज्यादा फिसड्डी लाेसल थाना, नीमकाथाना सदर अाैर उद्याेग नगर थाना है, जबकि थाेई, बलारां और नेछवा थाने की पेंडेंसी रिपाेर्ट सबसे कम है।

पुलिस थानाें की जनवरी से नवंबर महीने तक की जारी पेंडेंसी रिपाेर्ट में अभी तक अाईपीसी के 7964 प्रकरण दर्ज हुए, जबकि लाेकल व स्पेशल एक्ट में 1269 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। इनमें पेंडिंग मामलों की संख्या 1982 है। कुल पेंडेंसी रिकार्ड का प्रतिशत 42.91 रहा है जाे न्यूनतम पेंडेंसी के रिकाॅर्ड से करीब चार गुना ज्यादा है। इनमें भी 763 चालान पेंडिंग चल रहे हैं और पेंडिंग एफआर की संख्या करीब 600 बताई जा रही है।

642 मामले ताे ऐसे हैं जाे तीन माह से भी अधिक समय से पेंडिंग हैं। इनमें पुलिस की जांच अभी तक पूरी नहीं हाे पाई है। इसके अलावा पेंडेंसी की खास बात ये है कि इस साल जिलेभर में 627 लाेगाें की गुमशुदगी दर्ज हुई। इनमें 189 का अभी तक पुलिस सुराग तक नहीं लगा पाई है अाैर अपहरण के 28 प्रकरण लंबित चल रहे हैं।

24 थानाें में सबसे कम पेंडेंसी 21.09 फीसदी थाेई थाने की रही है, जबकि 24.23 फीसदी पेंडेंसी के साथ बलारां थाना दूसरे नंबर पर और 25.10 फीसदी पेंडेंसी के साथ जिले में नेछवा थाना तीसरे स्थान पर है। इनके थानाधिकारी बाबूलाल मीणा, आलाेक पूनिया व बिमला बुडानिया के अनुसार घटना के तुरंत बाद माैके पर पहुंचना, अनुसंधान अधिकारियाें की नियमित माॅनीटरिंग करना और आम पब्लिक का बराबर का सहयाेग मिलने के कारण वे लाेग पेंडेंसी निबटाने में सफल हाे रहे हैं।

  • लाेसल थाना63.83%
  • नीमकाथाना सदर थाना63.60%
  • उद्याेग नगर थाना52.80%
  • नीमकाथाना काेतवाली52.62%
  • काेतवाली सीकर52.31%
  • रानाेली थाना50.65%
  • सदर सीकर48.18%
  • पाटन थाना47.33%
  • श्रीमाधाेपुर थाना45.74%
  • रींगस थाना44.14%
  • खाटूश्यामजी थाना43.97%
  • धाेद थाना41.31%
  • रामगढ़ सेठान38.69%
  • अजीतगढ़ थाना38.26%
  • दादिया थाना35.28%
  • दांतारामगढ़ थाना34.87%
  • सदर फतेहपुर34.12%
  • महिला थाना31.63%
  • लक्ष्मणगढ़ थाना31.00%
  • खंडेला थाना29.08%
  • काेतवाली फतेहपुर25.68%
  • नेछवा थाना25.10%
  • बलारां थाना24.23%
  • थाेई थाना21.05%
  • मामले 2020 2021
  • डकैती 6 2
  • हत्या 56 48
  • हत्या का प्रयास 46 85
  • लूट 27 24
  • नकबजनी 133 154
  • वाहन चाेरी 431 429
  • अन्य चाेरी 505 672
  • दुष्कर्म 129 176
  • अपहरण 211 225
  • एससी-एसटी पर अत्याचार 248 297
  • भारतीय दंड संहिता 7099 7964
  • लाेकल व स्पेशल एक्ट 1388 1269​​​​​​​

वारदात खाेलने में झुंझुनूं दूसरे नंबर पर
जयपुर रेंज में जयपुर ग्रामीण, अलवर, भिवाड़ी, दाैसा, सीकर व झुंझुनूं जिले अाते है। इनमें अपराध में अलवर, दाैसा व भिवाड़ी टाॅप पर हैं, जबकि वारदात खाेलने अाैर अपराध नियंत्रण में सीकर जिला टाॅप पर है। दूसरा नंबर झंुझुनूं जिले का है।​​​​​​​
माॅनीटरिंग और प्रयास दाेनों ही जारी है
जिलेभर में पुलिस थानाें की पेंडेंसी निबटाने के लिए सभी थानाधिकारियाें की माॅनीटरिंग की जा रही है। पुलिस का प्रयास है कि शेष बचे दिसंबर के महीने में ज्यादातर पेंडिंग मामलाें का निस्तारण कर दिया जाएगा। कुंवर राष्ट्रदीप, एसपी, सीकर

खबरें और भी हैं...