पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जैब की मीटिंग में बड़ा फैसला:जेईई एडवांस्ड में अनुपस्थित छात्रों को अगले साल मिलेगा तीसरा मौका, दैनिक भास्कर ने पांच दिन पहले ही बता दिया था

सीकर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस साल एक लाख अभ्यर्थियों ने परीक्षा नहीं दी - Dainik Bhaskar
इस साल एक लाख अभ्यर्थियों ने परीक्षा नहीं दी
  • जेईई एडवांस्ड-2020 में अनुपस्थित छात्रों को जेईई मेन-2021 में भाग नहीं लेना होगा, जेईई एडवांस्ड-2021 में सीधे भाग ले सकेंगे
  • छात्रों का कहना है कि सभी छात्रों को अतिरिक्त मौका मिलना चाहिए। सिर्फ अनुपस्थिति छात्रों को ही क्यों मौका दिया गया है

जेईई एडवांस्ड में कोरोना वायरस के चलते भाग नहीं लेने वाले छात्राें को तीसरा मौका दिया जाएगा। मंगलवार को ज्वाॅइंट एडमिशन बोर्ड (जैब) की हुई मीटिंग में यह बड़ा फैसला लिया गया। जेईई एडवांस्ड में चुने गए छात्र साल 2021 की जेईई एडवांस्ड में भाग ले सकेंगे। गौरतलब है कि दैनिक भास्कर ने नौ अक्टूबर के अंक में ही सबसे पहले यह बता दिया था कि जैब की मीटिंग में यह बड़ा फैसला लिया जा सकता है।

जैब की महत्वपूर्ण मीटिंग मंगलवार को बुलाई गई थी। इसमें फैसला लिया गया कि कोरोना वायरस की वजह से जो स्टूडेंट्स जेईई एडवांस्ड में भाग नहीं ले सकेंगे, उन्हें एक अतिरिक्त मौका दिया जाए। यह मौका उन्हीं स्टूडेंट्स को मिलेगा, जिन्होंने जेईई एडवांस्ड-2020 में रजिस्ट्रेशन कराया था। इन छात्रों को जेईई मेन-2021 में भाग नहीं लेना होगा।

आईआईटी दिल्ली निदेशक वी रामगाेपाल राव ने बताया कि कोरोना की वजह से जेईई एडवांस्ड में भाग नहीं ले पाने वाले छात्रों को जेईई एडवांस्ड-2021 में भाग लेने का मौका दिया जाएगा। जैब की मीटिंग में यह बड़ा फैसला लिया गया है।
अंक सुधार के लिए छात्रों को मौका नहीं, फैसले पर छात्रों का विरोध शुरू
जैब की मीटिंग के बाद छात्रों ने फैसले का विरोध भी शुरू कर दिया है। छात्रों ने आईआईटी निदेशक रामगोपाल राव को सोशल मीडिया पर अपनी तीखी प्रतिक्रियाएं दी। छात्रों का कहना है कि सभी छात्रों को अतिरिक्त मौका मिलना चाहिए। सिर्फ अनुपस्थिति छात्रों को ही क्यों मौका दिया गया है। छात्रों का तर्क है कि कोरोना की वजह से वे अच्छी तैयारी नहीं कर सके। कई राज्यों में बाढ़ का खतरा भी था।

देखिए-इस साल एक लाख अभ्यर्थियों ने परीक्षा नहीं दी
आईआईटी के इतिहास में पहली बार जेईई-मेन से चयनित करीब एक लाख विद्यार्थियों ने इस साल जेईई-एडवांस्ड परीक्षा नहीं दी। 2016 से अब तक के आंकड़े देखें तो पहली बार ऐसा हुआ, जब चयन होने के बाद भी छात्र परीक्षा में नहीं बैठे। छात्रों ने सोशल मीडिया पर परीक्षा स्थगित करने की मुहिम भी चलाई थी।
साल जेईई एडवांस्ड के स्टूडेंट्स रजिस्टर्ड
2020 2.50 लाख 1.60 लाख
2019 2.45 लाख 1.73 लाख
2018 2.31 लाख 1.65 लाख
2017 2.21 लाख 1.72 लाख
2016 1.98 लाख 1.51 लाख

खबरें और भी हैं...