ऐसे प्रयासों से बढ़ेगी हरियाली:सुमेरसिंह ने 3600 पेड़ लगाकर 16 बीघा बंजर जमीन को बना दिया स्मृति वन

सीकर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सांवलोदा लाडखानी के सुमेरसिंह शेखावत पाैधे लगाने पर लाखाें रुपए खर्च कर चुके
  • इनके बनाए वन में घूमने आते हैं ग्रामीण

आज हरियाली अमावस्या है। इस माैके पर दैनिक भास्कर हरियाली के रखवाले गांव की प्रेरणादायी कहानी लाया है। ये कहानी सांवलाेदा लाडखानी गांव की है, जहां के सुमेरसिंह शेखावत ने पाैधे लगाकर इतिहास रच दिया है। दरअसल गांव के बाहर चारागाह की 16 बीघा जमीन थी। सुमेरसिंह काे इस बंजर जमीन काे हराभरा करने का विचार आया ताे अपने खर्चे से ट्रैक्टर लगाकर जमीन को समतल कराया।

शेखावत ने निजी खर्चे से 2016 में पहले साल में 1500 और दूसरे साल 1600 पौधे लगाए। चाराें तरफ तारबंदी करवाकर गेट लगवाया। शुरुआत में पाैधाें को टैंकराें से पानी दिया। भामाशाह प्रहलादसिंह ने जमीन दी, तो ट्यूबवैल लगवाया। 6 साल की मेहनत में 3600 पाैधाें ने पेड़ाें का रूप ले लिया है। गांव के लाेग घूमने आते हैं। सांवलाेदा धायलान की चारागाह की 35 बीघा जमीन पर पिछले साल निजी नर्सरी से 4100 पाैधे खरीदकर लगाए हैं।

मानसून सीजन में लगेंगे 23 लाख पौधे

मानूसन सीजन में इस बार जिले में करीब 25 लाख पौधे तैयार किए हैं। इनमें 17 लाख 72 हजार औषधीय पौधे हैं, जिन्हें घर-घर में लगवाया जाएगा। छह लाख से ज्यादा पाैधे आमजन एवं वन विभाग की ओर से राेपित करवाए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...