• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • The Operation Theater Has Been Gathering Dust Since 2005, The Sonography Machine, Which Came 2 Years Ago, Was Also Closed For One And A Half Months

खाटूश्यामजी सीएचसी का मामला:2005 से धूल फांक रहा ऑपरेशन थिएटर, 2 साल पहले आई सोनोग्राफी मशीन भी डेढ़ माह से बंद

खाटूश्यामजी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऑपरेशन थिएटर में धूल फांक रहे लाखों के उपकरण। - Dainik Bhaskar
ऑपरेशन थिएटर में धूल फांक रहे लाखों के उपकरण।
  • सर्जन व सोनोलॉजिस्ट के पद रिक्त, भटक रहे मरीज

राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में 15 वर्ष पहले बने ऑपरेशन थिएटर में लाखों के उपकरण धूल फांक रहे हैं। इसी तरह दो साल पहले राज्य सरकार द्वारा दी गई सोनोग्राफी मशीन भी सोनोलॉजिस्ट नहीं होने से डेढ़ माह से धूल फांक रही है। चिकित्सा विभाग व जनप्रतिनिधियों की अनदेखी के कारण मरीजों को सर्जरी व सोनोग्राफी की सुविधा नहीं मिल रही है।

नतीजा, यहां के मरीजों व गर्भवती महिलाओं को छोट-छोटे ऑपरेशन व सोनोग्राफी के लिए सीकर या रींगस जाना पड़ता है। गौरतलब है कि 15 साल पहले डॉ. भूपेन्द्र सोनगरा ने ऑपरेशन शुरू किया था, लेकिन उनके तबादले के बाद किसी ने भी ओटी की सुध नहीं ली। 2014 में एक सर्जन चिकित्सक लगाया गया, लेकिन उन्होंने भी ऑपरेशन थिएटर शुरू नहीं किया।

मार्च 2021 में भामाशाह ने थिएटर में दिए एक लाख रुपए के उपकरण : सीएचसी प्रभारी डॉ. गोगराज सिंह निठारवाल ने बताया कि उन्होंने लोटस डेयरी प्रबंधन को प्रेरित कर मार्च 21021 में एक लाख रुपए के उपकरण ऑपरेशन थिएटर में मंगवाए थे। एमआरएस की बैठक के दौरान विधायक वीरेंद्र सिंह ने भामाशाह को सम्मानित भी किया था। इसके बाद फिर से खाटूश्यामजी में ओटी शुरू होने की उम्मीद जगी थी, लेकिन नए उपकरण भी ताले में बंद हो गए और धूल फांकने लगे।

डॉ. निठारवाल ने बताया कि सोनोलॉजिस्ट के लिए उच्च अधिकारियों को अवगत करवाया गया है। साथ ही सर्जन की भी मांग की गई है। दोनों विशेषज्ञ चिकित्सक मिलने पर सोनोग्राफी व सर्जरी शुरू करवा दी जाएगी। विधायक को भी इस मामले में अवगत कराया है।

एनेस्थीसिया विशेषज्ञ का उपयोग नहीं : सीएचसी में सर्जन, सोनोलॉजिस्ट व एमडी गायनिक नहीं होने से ऑपरेशन थिएटर नहीं चल रहा, जबकि एनेस्थीसिया विशेषज्ञ यहां कार्यरत है, लेकिन उनका उपयोग नहीं हो रहा। गौरतलब है कि हाल ही में राज्य सरकार ने पांच करोड़ रुपए की लागत से नवीन अस्पताल निर्माण की घोषणा की है। ऐसे में जब तक यहां विशेषज्ञ चिकित्सा नहीं होंगे, तब तक मरीजों को इसका फायदा नहीं होगा।

हर माह 40-45 डिलेवरी, 15 को सिजेरियन के लिए करना पड़ता है रैफर

राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में दो वर्ष पूर्व राज्य सरकार द्वारा सोनोग्राफी मशीन की सौगात मिली थी। तीन सितंबर 2019 को विधायक वीरेंद्र सिंह ने उद्घाटन तो किया लेकिन मशीन कभी खराब हो गयी तो कभी सोनोलॉजिस्ट नहीं रहा। अगस्त के आखिरी में सोनोलॉजिस्ट डॉ. राजेश मीणा का तबादला होने के बाद सीएचसी में सोनोग्राफी सेवा बंद हो गयी। हालांकि विधायक ने जल्द ही चिकित्सक लगाने का आश्वासन दिया है। पार्षद ललिता सोनी ने बताया कि रींगस सीएचसी में सोनोलॉजिस्ट उपलब्ध है।

क्षेत्रीय विधायक वीरेंद्र सिंह व सीएमएचओ प्रयास करें तो सप्ताह में एक-दो दिन खाटूश्यामजी में सोनोग्राफी की सुविधा मिल सकती है। सोनोलॉजिस्ट के अभाव में कस्बे सहित आस-पास के 15 गावों के मरीजों को सोनोग्राफी के लिए 15 किमी दूर रींगस व 50 किमी दूर सीकर जाना पड़ता है। सीएचसी में हर माह 40 से 45 प्रसव होते हैं। इसमें 15 गर्भवती को सिजेरियन के लिए रैफर करना पड़ता है।

मैंने हाल ही में अस्पताल का दौरा किया है। वहां की आवश्यकताओं की जानकारी ली है। अब जल्दी ही ऑपरेशन थिएटर शुरू करने का प्रयास करेंगे।
वीरेंद्र सिंह, विधायक, दांतारामगढ़

खबरें और भी हैं...