पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लुटेरी दुल्हन का मामला:पंजाबी, मराठी और फर्राटेदार अंग्रेजी भाषा बाेलने में माहिर है लुटेरी दुल्हन

सीकर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लुटेरी दुल्हन। - Dainik Bhaskar
लुटेरी दुल्हन।

दलाल दंपती के साथ पकड़ में आई 23 वर्षीय लुटेरी दुल्हन गुरुप्रीत काैर ठगी के बाद स्टाइलिश जीवन जीती थी। जिला नांदेड़-महाराष्ट्र में पढ़ी-लिखी हाेने पर गुरुप्रीत अंग्रेजी, मराठी, पंजाबी व हिंदी के अलावा मारवाड़ी बाेलना भी जानती है।

शादी के नाम पर ठगी का शिकार हुए गाड़ाेदा निवासी प्रेमचंद ने बताया कि 21 फरवरी काे उसकी गुरुप्रीत उर्फ प्रिया के साथ शादी हाे गई थी। शादी के बाद वह हाईफाई तरीके से रहती। बीच-बीच में अंग्रेजी बाेलना उसकी आदत में शुमार था। उसके बाॅयफ्रेंड भी थे। वाॅट्सएप पर चेटिंग करते हुए उसने दाे-तीन बार पकड़ भी लिया था।

इसके बाद वह अपना माेबाइल लाॅक रखने लगी। उसे साेने का मंगलसूत्र, साेने का कांटा, चांदी की पायजेब दी थी। उसी के कहने पर दलाल मनाेज उर्फ पप्पू काे दाे लाख रुपए दिए, लेकिन जब ताऊ के पाेते की शादी थी। उसमें पहनने के लिए उसने उसकी बहन से भी अलग से गहने लिए थे और जब परिवार के लाेग शादी में व्यस्त थे ताे वह माैका पाकर दलाल ओमप्रकाश के साथ वैन में बैठकर फरार हाे गई।

इससे पहले गुरुप्रीत ने यहीं झांसा दूधवा के सिकंदर गाेस्वामी काे दिया। ससुराल से पीहर जाने का बहाना बनाकर वह दलाल ओमप्रकाश औरअंजली के पास चली जाती थी। उसे गहने ले जाने का माैका नहीं मिला ताे वापस लाैट आती थी।

2019 में दलाल ओमप्रकाश और उसके जीजा शंकर ने उसकी शादी प्रिया से करवाई थी। उसके बदले उन्हें 2.27 लाख रुपए दिए थे। 20 महीने रहने के बाद 13 जनवरी काे वह गहने साेने का मंगलसूत्र, दाे साेने की नाेजपीन, पायजेब आदि लेकर भाग गई। पुलिस ने बताया गुरुप्रीत उर्फ प्रिया तथा ओमप्रकाश और उसकी पत्नी अंजली काे सिकंदर वाले मामले में काेर्ट में पेश कर जेल भिजवा दिया है।

महिला दलाल काे अपनी बहन बताती है गुरुप्रीत
गुरुप्रीत और अंजली महाराष्ट्र की हाेने के कारण इन दाेनाें के बीच जान पहचान थी। अंजली ओमप्रकाश की पत्नी हाेने पर वह अपने ससुराल महाराष्ट्र जाता था। तब तीनाें की पहचान हाेने पर उन्हाेंने शादी के नाम पर ठगी करने का गिराेह बना लिया।

इसमें शंकर गाेस्वामी और मनाेज उर्फ पप्पू अभी पुलिस के हाथ नहीं लगे हैं। शादी के लिए ओमप्रकाश और अंजली गुरुप्रीत काे अपनी पहचान की अच्छी लड़की बताते और उसकी फाेटाे दिखाकर बात पक्की करते। गुरुप्रीत भी अंजली काे अपनी बहन बताती थी। रुपए लेने के बाद उसकी शादी करा देते। साथ में यह भी कहते हैं कि इसे नाराज मत करना। पैसे मांगे ताे दे देना। वरना एक बार जाने के बाद वह वापस नहीं आएगी।

पीड़ित प्रेमचंद ने बताया कि एक दिन उसने गुरुप्रीत के पिता से बात की ताे उसका कहना था कि झगड़ा कर उसकी पत्नी कंवलजीत उसे छाेड़ कर चली गई। बेटी से वह बात नहीं करता।

खबरें और भी हैं...