• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Two Friends Had Come To Bathe, When The Third Friend Reached The Spot, It Was Found That Drowning; Took Out The Dead Body After Trying Hard

खदान के पानी में डूबने से दो युवकों की मौत:नहाने आये थे दो दोस्त, तीसरा दोस्त मौके पर पहुंचा तो डूबने का पता चला; एक की हाल ही में हुई थी सगाई

सीकर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दोनों मृतक दोस्त (दांये वीरेंद्र ब्लू शर्ट में और बांये राजेंद्र सफ़ेद टीशर्ट में)। फ़ाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
दोनों मृतक दोस्त (दांये वीरेंद्र ब्लू शर्ट में और बांये राजेंद्र सफ़ेद टीशर्ट में)। फ़ाइल फोटो।

जिले के दांतारामगढ़ क्षेत्र के बाजियावास गांव में खदान में भरे पानी में शुक्रवार को नहाने आये दो दोस्तों की डूबने से दर्दनाक मौत हो गई। थोड़ी देर बाद तीसरे दोस्त के मौके पर पहुंचने और उसे खदान में नहा रहे दोनों दोस्तों के नहीं दिखाई देने से घटना का पता चला। सूचना मिलते ही गांव के सैकड़ों ग्रामीण वहां मौजूद हो गए। करीब 5 घंटे बाद जिला मुख्यालय से SDRF टीम भी मौके पर पहुंच गई और करीब 1 घंटे की मशक्कत के बाद दोनों युवकों के शव को बाहर निकाला गया। फिलहाल शव दांतारामगढ CHC की मोर्चरी में रखवाए गए है, जहां आज शनिवार सुबह पोस्टमार्टम करवा कर परिजनों को सौंपे जाएंगे।

खदान के पानी में शव ढूंढते SDRF टीम के गोताखोर।
खदान के पानी में शव ढूंढते SDRF टीम के गोताखोर।

घटना दांतारामगढ़ क्षेत्र के बाजियावास गांव में शुक्रवार दोपहर करीब 1:30 बजे की है। राजेन्द्र (23) पुत्र शेर सिंह निवासी बाज्यावास, वीरेंद्र सिंह (21) पुत्र किशन सिंह दरोगा निवासी बाज्यावास नहाने के लिए खदान में गए थे। वे कपड़े, जूते उतारकर व मोबाइल रखकर नहाने के लिए उतर गए। खदान में उतरने से पहले अपने एक दोस्त को फोन कर बुलाया था लेकिन तीसरे दोस्त के आने पर दोनों युवक वहां नहीं दिखे। दोनों के कपड़े व मोबाइल मिले। इससे डूबने की आशंका हुई।

शव बाहर निकालकर अस्पताल की मोर्चरी में ले जाते हुए।
शव बाहर निकालकर अस्पताल की मोर्चरी में ले जाते हुए।

तीसरे दोस्त ने 200 मीटर दूर स्थित क्रेशर मशीन संचालक से कहा कि उन दोनों के कपड़े व मोबाइल दोनों पड़े हैं। क्रेशर संचालक ने परिजनों व पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों की मदद से तलाशने का प्रयास किया, लेकिन पांच घंटे तक शव नहीं मिले। शाम 6 बजे सीकर से आई SDRF टीम ने एक घंटे में दोनों शवों को खोज लिया। बताया जा रहा है युवक चार-पांच दिनों से खदान में नहाने जा रहे थे। दोनों अविवाहित थे। फिलहाल दोनों मृतकों के शवों को दांतारामगढ के राजकीय अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया है जहां कल सुबह दोनों शवों का पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सौंपे जाएंगे।

इकलौता बेटा था वीरेन्द्र, हाल ही हुई थी सगाई
वीरेंद्र सिंह दांता में स्टूडियो का काम करता था। वह अपने घर में इकलौता बेटा था। हाल में उसकी सगाई भी हुई थी। वहीं राजेन्द्र बाज्यावास में गणेश मंदिर के पास प्रसाद व मिठाई की दुकान कर रखी थी। वहीं दूसरे मृतक राजेन्द्र के दो भाई व दो बहनें है। घटना के बाद दोनों घरों में कोहराम मच गया। परिजनों को रो-रो कर बुरा हाल हो गया।

पहले के हादसों से प्रशासन ने नहीं लिया कोई सबक

सीकर जिले के नीमकाथाना और दांतारामगढ़ क्षेत्र में खाली पड़ी खदानों में पानी भरने और गहरे गड्ढे होने की वजह से पूर्व में भी कई हादसे हो चुके हैं लेकिन फिर भी खनन विभाग और जिला प्रशासन द्वारा इन गहरे गड्ढों में किसी प्रकार की कोई फेंसिंग भी नहीं करवाई जाती और यहां तक की कोई चेतावनी बोर्ड भी नहीं लगाया जाता है।

खबरें और भी हैं...