• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Used To Make Unemployed People By Taking Money, Clerks And Class IV Employees In FCI, After Getting Money, Used To Switch Off Mobiles, Having Fun Living In Rented Flats In Noida

झांसेबाज को पुलिस ने दबोचा:पैसे लेकर बेरोजगारों को बनाता था FCI में क्लर्क और चतुर्थश्रेणी कर्मचारी, पैसे मिलने के बाद मोबाइल कर लेता स्वीच आफ

सीकर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस गिरफ्त में झांसेबाज। - Dainik Bhaskar
पुलिस गिरफ्त में झांसेबाज।

FCI यानि फूड कोरपोरेशन आफ इंडिया में क्लर्क और ग्रेड चतुर्थ की नौकरी दिलाने का झांसा देकर कई लोगों से ठगी करने वाले यूपी निवासी को पुलिस ने आखिरकार दबोच लिया। आरोपी युवक बेरोजगारों से लाखों रुपए लेकर सरकारी नौकरी दिलाने का झांसा देता था। तीन बेरोजगारों से 18 लाख रुपए लेकर युवक ने मोबाइल नंबर बदल लिए और फ्लैट किराए पर लेकर मजे से रह रहा था।

बलारा थाना इलाके में चुडिमियान के श्यामलाल ने थाने में शिकायत दी कि उत्तरप्रदेश के प्रतीक यादव ने उसको एफसीआई में क्लर्क बनाने की कहकर 6 लाख रुपए लिए थे। इसके बाद उसके ​नंबर बंद आ रहे हैं, वहीं बाद में पता चला कि उसके साथी जुबेर अली और अजय सिंह से भी आरोपी ने इसी तरह का झांसा देकर 12 लाख रुपए ले लिए।

पुलिस ने शिकायत दर्ज होने के बाद आरोपी के मोबाइल नंबर स्वीच आफ आ रहा था। पुलिस ने उस नंबर के हैंडसेट की जानकारी जुटाई तो वह एक्टिवेट निकला। पुलिस ने उसके आधार पर लोकेशन की जानकारी निकाली और ग्रेटर नोएडा में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी यहां पर किराए पर एक फ्लैट लेकर रह रहा था।

पुलिस पूछताछ में आया कि आरोपी बेरोजगारों को टारगेट करके किसी भी इलाके में चला जाता है। वहां पर लोगों से पहचान बनाकर उनके बारे में जानकारी हासिल करता ​था। फिर उनको विश्वास में लेकर अपनी पहचान दिल्ली में अफसरों से होने की कहकर नौकरी दिलाने का दावा करता था। एफसीआई में नौकरी के लिए आसानी से लोग झांसे में आ जाते हैं क्योंकि इसके बारे में कई लोगों को अधिक जानकारी नहीं है।

पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। पुलिस का मानना है कि​ गिरफ्तारी के बाद कई पीड़ित सामने आ सकता है। फिलहाल तो आरोपी से लिए गए रुपए बरामद करने का प्रयास कर रही है।

खबरें और भी हैं...