स्वास्थ्य विभाग ने शुरू कराई जांच:भ्रूण जांच व गर्भपात के शक में ग्रामीणों ने क्लीनिक घेरा, बीसीएमओ ने सीज कराया

सीकर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

धोद इलाके के रामपुरा गांव में शनिवार देर रात ग्रामीणाें ने भ्रूण जांच और गर्भपात के शक में निजी क्लीनिक काे घेर लिया। सूचना पर नायब तहसीलदार, बीसीएमओ और सदर थाना पुलिस माैके पर पहुंची। प्रारंभिक जांच के बाद निजी क्लीनिक काे सीज कराया।

क्लीनिक का संचालन स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत नर्स द्वारा किया जा रहा है। ग्रामीणाें का आराेप है कि क्लीनिक में अवैध भ्रूण लिंग जांच और गर्भपात कराया जाता है। दिनभर क्लीनिक के आसपास संदिग्ध लाेगाें की आवाजाही रहती है। क्लीनिक संचालिका की निजी अस्पताल से सांठगांठ है।

जन्म से पहले बच्चे के लिंग की जानकारी दी जाती है। गर्भ में बच्ची हाेने पर गर्भपात करा दिया जाता है। जानकारी मिलने पर बीसीएमओ, नायब तहसीलदार और सदर थाना पुलिस माैके पर पहुंची। क्लीनिक की जांच की। क्लीनिक पर काेई गर्भवती महिला और पेसेंट नहीं मिला। हालांकि वहां हॉस्पिटल जैसा स्ट्रक्चर बना हुआ था। मकान को सीज कर दिया है।

स्टेंडिंग कमेटी करेगी जांच: मामले काे स्टेडिंग कमेटी साैंपा है। कमेटी में उपखंड स्तरीय अधिकारी, औषधि नियंत्रण अधिकारी और स्वास्थ्य विभाग के अफसर शामिल है। कमेटी ये देखेगी कि क्लीनिक का संचालन नियमानुसार किया जा रहा था या नहीं। क्लीनिक संचालक के पास प्रैक्टिस करने की याेग्यता न मिलने पर मुकदमा दर्ज होगा।

शनिवार रात बीसीएमओ ने जानकारी दी कि रामपुरा में ग्रामीण निजी क्लीनिक संचालक पर अवैध गतिविधियाें के आराेप लगा रहे हैं। बीसीएमओ ने माैके पर जांच की। स्टेडिंग कमेटी ग्रामीणाें के आराेपाें की जांच करेगी। ।
- डाॅ. निर्मलसिंह, सीएमएचओ

शनिवार रात ग्रामीणाें ने सूचना थी कि क्लीनिक में अवैध गतिविधियां संचालित हैं। माैके पर 50-60 ग्रामीण माैजूद थे। हमने समझाइश कर मामला शांत कराया। स्वास्थ्य विभाग जांच करा रहा है।
- सुनीता बाॅयल, थानाधिकारी सदर

खबरें और भी हैं...