पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • With The Start Of School coaching And College, 15 Thousand People Will Get Employment, Sikar's Economy Will Pick Up Pace

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिक्षालय खुले:स्कूल-कोचिंग व कॉलेज शुरू हाेने से 15 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार, रफ्तार पकड़ेगी सीकर की अर्थव्यवस्था

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • टीचिंग व नॉन टीचिंग स्टाफ के करीब 15 हजार शिक्षकों, क्लर्क, वार्डन, मैनेजमेंट, गार्ड, मैसकर्मी, कंडक्टर-ड्रावरों को मिलेगा रोजगार
  • करीब 250 से 300 प्राइवेट हाॅस्टल संचालित हैं, ये भी शुरू हो जाएंगे एजुकेशन इंडस्ट्री से सीकर में हर वर्ष 4 हजार करोड़ रुपए आते हैं

राज्य सरकार ने 18 जनवरी से प्रदेशभर में 9वीं से 12वीं तक स्कूल, कोचिंग खोलने की मंजूरी दी है। गृह विभाग ने निर्देश जारी किए हैं कि केवल कंटेन्मेंट जोन के बाहर शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार विद्यार्थियों को कोचिंग संस्थान जाने की अनुमति होगी। इसके लिए अभिभावकों से लिखित सहमति भी लेनी होगी। ऑनलाइन, डिस्टेंस लर्निंग को प्रोत्साहित किया जाएगा।

एजुकेशन हब सीकर में स्कूल और कोचिंग खोलने के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। कोचिंग इंडस्ट्री के खुलने से सीकर शहर की आर्थिक ढांचा फिर से अपनी गति पकड़ेगा। इसके साथ ही शहर के स्कूल, कोचिंग इंस्टीट्यूट्स, प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करवाने वाले संस्थान और डिफेंस एकेडमियों से 15 हजार से अधिक टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ जिनमें शिक्षकों, क्लर्क, वार्डन, मैनेजमेंट, गार्ड, मैस कार्मिकों, ड्राईवर-कंडक्टर को भी रोजगार मिलने से राहत मिलेगी। कोचिंग व स्कूल दोनों के दो-दो सेक्शन किए जाएंगे।

पिपराली, नवलगढ़ रोड पर संचालित सैकड़ों दुकानों, स्टेशनरी, बुक शॉप, सैलून, फास्ट फूड सेंटर, रेस्टोरेंट, शोरूम्स पर फिर से रौनक लौटेगी। एजुकेशन हब से सीकर को सालाना 4 हजार करोड़ रुपए की आय होती है। कोरोना के चलते इस इंडस्ट्री पर काफी अ असर पड़ा है। अब फिर से स्कूल-कोचिंग, डिफेंस व प्रतियोगी परीक्षाएं की तैयारी वाले कोचिंग शुरू होने से अर्थव्यवस्था पटरी पर आ जाएगी।

दूसरे जिलों और राज्यों से आने वाले 30 हजार से ज्यादा मेडिकल-इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स ऑफलाइन क्लास ले पाएंगे

अन्य जिलों व राज्यों से आने वाले 30 हजार से अधिक स्टूडेट्स ऑफलाइन क्लासेज ले सकेंगे। इसके साथ ही अन्य राज्यों व जिलों से सीकर के बड़े स्कूल व कॉलेज संस्थानों में हजारों छात्र-छात्राएं अध्ययन के लिए आ सकेंगे। इससे सीकर में बाहर का पैसा आएगा। पिपराली और नवलगढ़ रोड एरिया के आसपास की करीब 10 कॉलोनियों में सैकड़ों मकान मालिकों को भी किराए से आय हो सकेगी। क्योंकि 500 से अधिक परिवार सीकर रहकर अपने बच्चों को काेचिंग करवाते हैं। वहीं बहुत से छात्र सेपरेट रूम लेकर रहते हैं।
2200 ड्राइवर-कंडक्टरों को फिर मिलेगा रोजगार

स्कूल और कोचिंग में आने वाले छात्रों से अकेले सैलून संचालकों को सालाना 60 लाख रुपए से अधिक आय होती है। सीकर शहर के सभी स्कूल-कॉलेज व कोचिंग संस्थानों में 1 हजार से अधिक स्कूल बसें, ऑटो, मैजिक, छोटी गाड़ियां बच्चों को लाने-ले जाने का कार्य करती हैं। जिनमें करीब 2200 से अधिक ड्राइवर कंडक्टर को फिर से राेजगार मिल सकेगा। वहीं हजारों छात्रों के हर रोज आसपास के क्षेत्रों जैसे लक्ष्मणगढ़, फतेहपुर, लोसल, नेछवा, रींगस, पलसाना, खाटूश्यामजी, नवलगढ़, मंडावा, डूंडलोद से हर दिन कोचिंग के लिए आते जाते हैं।

हॉस्टलों में बिजली-पानी के बिल नहीं चुका पा रहे थे

शहर में करीब 250 से 300 निजी हॉस्टल संचालक हैं। जिनमें भी सैकड़ों गार्ड, मैस कार्मिक, वार्डन कार्य करते हैं। कोचिंग व स्कूल शुरू होते ही इन्हें फिर से रोजगार मिल सकेगा। प्राईवेट हॉस्टल यूनियन के जिलाध्यक्ष जितेंद्रसिंह कारंगा ने बताया कि हॉस्टल संचालकों को कोरोना काल में हॉस्टल मैंटीनेंस, बिजली-पानी के बिल और गार्ड सहित अन्य मोटे खर्च उठाने पड़े थे। बैंक की किस्तें नहीं जा पा रही थीं। ऐसे में अब फिर से हॉस्टल में छात्र-छात्राओं के लौटने से आर्थिक स्थिति पटरी पर आ सकेगी।

राज्य से बाहर से आने वाले स्टूडेंट की जांच की जाएगी

राजस्थान के बाहर से आने वाले विद्यार्थी को यहां आने से पहले 24 घंटे पूर्व आरटीपीसीआर टेस्ट की जांच अनिवार्य होगी। जांच निगेटिव आने पर ही कोचिंग में प्रवेश की अनुमति मिलेगी। संस्थान में प्रत्येक छात्र की स्क्रीनिंग करवानी होगी। कोचिंग संस्थानों द्वारा कोचिंग में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों के संबंध में सूचना कलेक्टर द्वारा नियुक्त नोडल अधिक को भेजनी हाेगी।

क्लासरूम में क्षमता के 50 प्रतिशत विद्यार्थियां को ही अनुमति दी जाएगी। कोचिंग के एंट्री प्वाइंट पर स्टूडेंट्स का टेम्परेचर व सेनेटाइजेशन करवाया जाएगा। कोचिंग में कैंटीन, नोटिस बोर्ड के आस-पास भीड़ नहीं हो इसके प्रबंध किए जाएंगे।

कोचिंग संस्थानों में स्टेपिंग के लिए स्टिकर लगाए जा रहे हैं ताकि स्टूडेंट्स निर्धारित दूरी बनाए रखें। सीढ़ियों पर भी स्टीकर लगाए जा रहे हैं। कोचिंग कैम्पस में ‘मास्क नहीं तो प्रवेश नहीं‘ के बोर्ड लगाना शुरू कर दिया है। हर क्लास के बाद सैनेटाइजेशन की व्यवस्था की जा रही है। हॉस्टल्स में भी एक निर्धारित क्षेत्र को आइसोलेशन के लिए खाली रखा जा रहा है।

हॉस्टल के एक कमरे में एक ही स्टूडेंट को रखा जाएगा। हॉस्टल्स में रोजाना सेनेटाइजेशन किया जाएगा। मैस में एक साथ भोजन नहीं करवाया जाएगा। अलग-अलग टाइम में स्टूडेंट्स भोजन करेंगे। एक बैच से दूसरे बैच के मध्य कम से कम 30 मिनट का अंतराल रखा जाना चाहिए।

विद्यार्थियों को नो मास्क नो एंट्री व स्वयं की पानी की बोतल लाना सुनिश्चित करें। संस्थान द्वारा एंबुलेंस की व्यवस्था की जाएगी। कोविड-19 पॉजिटिव आने पर छात्र के इलाज की व्यवस्था करवाई जाए। यहां एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट द्वारा स्टूडेंट्स की एप्लीकेशन बेस मॉनिटरिंग करने का भी प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए एप डवलप किया जाएगा ताकि स्टूडेंट्स के बीमार होने की सूचना मिल सके और उसे समय पर उपचार उपलब्ध करवाया जा सके।
कॉलेज और विश्वविद्यालयों की अंतिम वर्ष की कक्षाएं लगेंगी, कक्षा 1 से 8 आगामी आदेश तक बंद रहेगी

गृह विभाग राजस्थान सरकार के शासन सचिव एनएल मीना ने सभी सरकारी व निजी स्कूलों के 9वीं से 12वीं तक नियमित कक्षाएं लगाने 18 जनवरी से खोलने के निर्देश जारी किए हैं। कॉलेज और विश्वविद्यालयों की सिर्फ अंतिम वर्ष की कक्षाएं शुरू होंगी। कक्षा एक से 8वीं तक कक्षाएं आगामी आदेश तक बंद रहेंगी।

  • कोचिंग संस्थान खुलने से सिर्फ संचालक ही नहीं बल्कि सीकर के हजारों लोग और छोटे से लेकर बड़े व्यवसायी व आम आदमी परेशान हो रहे थे। स्कूल- कोचिंग खुलने से फिर से हजारों लोगों को रोजगार मिलेगा। - इंजी. श्रवण सीएलसी, सीएलसी सीकर
  • शिक्षण संस्थान खुलने से विद्यार्थियों की बेहतर ऑफलाइन पढ़ाई होगी। साथ ही अनेक लोगों के लिए रोजगार के अवसर भी खुलेंगे। संस्थाओं में विद्यार्थियों के लिए कोविड-19 गाइडलाइन के अनुसार सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। - डॉ. पीयूष सुंडा, निदेशक, प्रिंस एजुकेशन हब सीकर
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

    और पढ़ें