समस्या:परमवीर चक्र विजेता शहीद पीरुसिंह स्मारक तक की सड़क टूटी, हाईकोर्ट में याचिका

पिलानी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिलानी. बेरी गांव में शहीद पीरू सिंह स्मारक तक की टूटी सड़क पर गड्‌ढों में भरे पानी के कारण बचकर किनारे से निकलते बाइक सवार। - Dainik Bhaskar
पिलानी. बेरी गांव में शहीद पीरू सिंह स्मारक तक की टूटी सड़क पर गड्‌ढों में भरे पानी के कारण बचकर किनारे से निकलते बाइक सवार।

पिलानी कस्बे से परमवीर चक्र विजेता शहीद पीरुसिंह के स्मारक तक की सड़क टूटकर बिखर चुकी है। क्षतिग्रस्त सड़क के कारण यहा से आमजन को आने-जाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आए दिन इस टूटी सड़क से हादसे हो रहे हैं और बारिश के दिनों में तो सड़क के कई हिस्से तालाब बन जाते हैं।

सड़क को दुरुस्त करवाने के लिए सड़क पर आने वाले बिशनपुरा, केहरपुरा, बनगोठड़ी, हमीनपुर, बेरी सहित अन्य गांवों के लोग प्रशासन से गुहार लगा चुके हैं परंतु प्रशासन सड़क को दुरुस्त करवाने की ओर ध्यान ही नहीं दे रहा है। बनगोठड़ी के सामाजिक कार्यकर्ता सुरेंद्र पूनियां ने हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका लगाकर सड़क को दुरुस्त करवाने की मांग की है।

परेशानी : 15 मिनट के सफर में लग जाता है डेढ़ घंटा

पिलानी-बेरी सड़क की खस्ता हालत के कारण आमजन को हो रही परेशानी का समाधान नहीं निकलने के कारण हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई है। ताकि आमजन की इस बड़ी समस्या का समाधान हो सके।

बनगोठड़ी सरपंच राजीव मेघवाल का कहना है कि पिलानी से बेरी तक रास्ता केवल 15 मिनट का है लेकिन टूटी-बिखरी सड़क के कारण डेढ से दो घंटे लग जाते है और आमजन को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

हमीनपुर के पीटीआई ताराचंद का कहना है कि टूटी-फूटी पिलानी-बेरी सड़क से जहां आमजन को आने-जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है वहीं वृद्धजनों को गाड़ी में भी परेशानी झेलनी पड़ती है और गाड़ी में भी झटके लगने के कारण कमर दर्द, गर्दन में झटका लग जाता है और काफी दिनों तक परेशान होना पड़ता है।

हमीनपुर के पूर्व सरपंच सुभाष का कहना है कि पिलानी जाने क यह एक मात्र रास्ता है जिससे गांवो के लोग रोजाना पिलानी जाकर आते है लेकिन टूटी सड़क के कारण उन्हे काफी समय लगता है और कई बार सड़क हादसे का शिकार भी हो जाते है।

सामाजिक कार्यकर्ता देवीसिंह शेखावत का कहना है कि आमजन पिलानी के लिए गाड़ी किराए पर करते है तो किराए की गाड़ी वाले भी ऐसे किराए से कतराते है व अधिकतर मना कर देते है और कहते है गाड़ी का नुकसान हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...