बेटियों ने दिया मां की अर्थी को कंधा:ब्रेन हेमरेज से हुई महिला कर्मचारी की मौत, बेटियों ने निभाया बेटे का फर्ज

रींगस6 महीने पहले

पटवारी का बास गांव में बिजली बोर्ड की महिला कर्मचारी के निधन के बाद बेटियों ने अर्थी को कंधा देकर मां का अंतिम संस्कार किया। तथा क्षेत्र के जन प्रतिनिधियों ने अंतिम यात्रा में पहुंचकर परिवार को सांत्वना दी।

अर्थी को कंधा देकर दी मुखाग्नि

इस दौरान पटवारी का बास ग्राम पंचायत सरपंच कृष्णा घोसल्या ने बताया कि शांति देवी झोटवाल 60 पत्नी बाबूलाल झोटवाल निवासी पटवारी का बास अपने भतीजे सीताराम के निधन पर चल रहे शोक दिवस में शामिल होने के लिए आई थी। इस दौरान महिला कर्मचारी का अचानक ब्रेन हेमरेज से मौत हो गई। शांति देवी के पुत्र नहीं होने पर बेटी लक्ष्मी व पूजा ने अर्थी को कंधा देकर अपनी मां को मुखाग्नि दी।

30 जून को होने वाली थी सेवानिवृत

बता दें कि शांति देवी जयपुर के आमेर सर्किल के विद्युत निगम कार्यालय में कर्मचारी के पद पर कार्यरत थी। जो 30 जून को सेवानिवृत होने वाली थी। उनके पति बाबूलाल की करीब 30 वर्ष पहले मौत हो गई थी। बाबूलाल की मौत के बाद शांति देवी बिजली बोर्ड में नौकरी कर रही थी।

वहीं शांति देवी की मौत की सूचना मिलने पर विधायक महादेव सिंह, पटवारी का बास ग्राम सेवा सहकारी समिति अध्यक्ष एडवोकेट सांवर चौधरी सहित अनेक जन प्रतिनिधियों व क्षेत्र के प्रबुद्धजन शव यात्रा में शामिल हुए।

खबरें और भी हैं...