अच्छी खबर:डॉक्टरों की नियुक्ति व सी-आर्म मशीन आने से होने लगी मेजर सर्जरी, 4 माह में 127 ऑपरेशन

सरदारशहर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल में सी-आर्म मशीन के सहयोग से ऑपरेशन करते डॉक्टर। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में सी-आर्म मशीन के सहयोग से ऑपरेशन करते डॉक्टर।
  • सरदारशहर अस्पताल में पहले ज्यादातर केस रैफर करते थे, अब सिजेरियन डिलीवरी भी हाेने लगी

संसाधनों की पर्याप्त उपलब्धता एवं डाॅक्टराें के रिक्त पदाेें काे भरे जाने के बाद उपखंड क्षेत्र के सबसे बड़े राजकीय छाेटूलाल सेठिया अस्पताल की व्यवस्थाएं अब सुदृढ़ हाेने लगी हैं। अस्पताल में पहले जहां ऑपरेशन के नाम पर टांके व पट्टी की जाती थी, वहीं अब हड्डियाें से जुड़े बड़े ऑपरेशन भी अस्पताल में हाेने लगे हैं। अप्रैल 2021 से जुलाई 2021 माह के अंत तक चार माह में अस्पताल में 127 छाेटे-बड़े ऑपरेशन किए गए हैं।

इससे पहले यहां इतनी बड़ी संख्या में कभी भी ऑपरेशन नहीं हुए। जब अस्पताल 75 बेड का था, उस समय मात्र 10 डाॅक्टर ही अस्पताल में कार्यरत थे। छोटी-छोटी बीमारियों और दुर्घटनाओं में घायलों को बीकानेर रैफर करना पड़ता था। अब अस्पताल में स्वीकृत 22 डाॅक्टराें के पदाें में 20 पर नियुक्ति हाेने के बाद दुर्घटना में घायल हाेकर आने वाले लाेगाें का उपचार व ऑपरेशन किया जा रहा है। अब यहीं पर ये सुविधाएं मिलने लग गई।

22 तक शुरू हाे जाएगा ऑक्सीजन प्लांट, साेनाेग्राफी मशीन शुरू हो जाएगी

सीएमएचओ डाॅ. मनोज शर्मा ने बताया कि विधायक भंवरलाल शर्मा की ओर से गत दिनाें जारी की गई राशि से अस्पताल के लिए आवश्यक उपकरणाें खरीद की जा चुकी है। सोनोग्राफी मशीन व फ्रेक्चर टेबल के 22 लाख की वित्तीय स्वीकृति जारी हाे चुकी है। सोनोग्राफी मशीन और ऑक्सीजन प्लांट 15 से 22 अगस्त के बीच शुरू कर दिए जाएंगे।

बीसीएमओ डॉ. विकास सोनी ने बताया कि विधायक के प्रयासाें से डाॅक्टराें की नियुक्ति हाेने के बाद अब अस्पताल में 24 घंटे डाॅक्टर उपलब्ध रहते हैं। अभी नाक, कान, गला रोग व नेत्र राेग विशेषज्ञ का पद खाली है।

पहले औसतन 15 बेड पर ही राेगी भर्ती हाेते थे

75 बेड अस्पताल के दौरान एवरेज 15 रोगियों की भर्ती थी। लेकिन अब सौ बेड भी कम पड़ रहे हैं। महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. स्वाति गेट के आने के बाद अस्पताल में प्रसुताओं काे सिजेरियन प्रसव के लिए अब रैफर न कर अस्पताल में ही ऑपरेशन किए जा रहे हैं। अस्पताल में बच्चेदानी के भी ऑपरेशन किए जा रहे हैं।

वहीं हड्डी रोग विशेषज्ञ के डॉ. किशन सिहाग व डॉ. अशोक यादव ने बताया कि सी-आर्म मशीन आने के बाद अब अस्पताल में मेजर सर्जरी की जा रही है, जिसके अंतर्गत वायरिंग फिक्सेशन किए जाने लगे हैं। लोगों को जयपुर-बीकानेर जाकर ऑपरेशन करवाने पर होने वाले बड़े खर्चों से राहत मिलने लगी है। सर्जन चिकित्सक दीनदयाल पारीक ने बताया कि अपेंडिक्स, हर्निया और अन्य बड़े ऑपरेशन भी इन चार माह में किए गए हैं।

भामाशाह के सहयाेग से 40 कराेड़ के काम और होंगे

अस्पताल की व्यवस्थाओं काे लेकर विधायक पंडित भंवरलाल शर्मा ने कहा कि नाक, कान और गला रोग तथा नेत्र रोग विशेषज्ञ की नियुक्ति शीघ्र ही अस्पताल में कराई जाएगी। भामाशाह बृजमोहन प्रहलादराय सर्राफ परिवार की ओर से 40 कराेड़ रुपए के काम अस्पताल में कराए जाएंगे। आधुनिक सुविधाओं का अस्पताल मेें विस्तार कराया जाएगा।

खबरें और भी हैं...