बहादुरी के लिए पुलिस वीरता पदक:असिस्टेंट कमांडेट रामस्वरूप यादव ने अपनी जान पर खेलकर मार गिराए थे 6 नक्सली, राष्ट्रपति से होंगे सम्मानित

श्रीमाधोपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

श्रीमाधोपुर के अरनियां गांव निवासी सीआरपीएफ सुकमा, छत्तीसगढ़ में तैनात असिस्टेंट कमांडेंट रामस्वरूप यादव पुत्र भगवाना राम बाडीनगर को गणतंत्र दिवस 2023 के अवसर पर राष्ट्रपति द्वारा बहादुरी के पुलिस वीरता पदक के लिये चुना गया है।

18 जुलाई 2016 को बिहार-झारखंड के सीमावर्ती जंगलों में सीआरपीएफ के विशेष सैन्य दस्ता कोबरा कमांडो व नक्सलियों के बीच हुई भीषण मुडभेड़ में कमांडेंट रामस्वरूप यादव ने नक्सलियों द्वारा बिछाई गई बारूदी सुरंग की चपेट में आने के बावजूद अपनी कोबरा टुकड़ी का नेतृत्व करते हुए न केवल 06 नक्सली मार गिराए थे बल्कि भारी मात्रा में स्वचालित हथियार और गोला बारूद भी बरामद किया था।

शहरी व जंगली युद्ध कला में माहिर तथा मार्क्स मैन शूटर कमांडेंट राम स्वरूप यादव के बारे में सरपंच प्रतिनिधि सीताराम बाड़ीगर ने बताया कि राष्ट्रपति द्वारा वीरता पदक मिलने की खबर से पूरे गांव में जोश, उत्साह व देश भक्ति का माहौल बना हुआ है। इस खबर से आस-पास के गांवों में नवयुवकों को देश के अलग-अलग सुरक्षा बलों में अधिकारी बनकर मां भारती की सेवा करने की प्रेरणा मिली है।

युद्ध कौशल प्रतियोगिताओं में लहरा चुके हैं अपने देश का परिचम

संघ लोक सेवा आयोग के 2010 बैच के सीआरपीएफ में सीधे नियुक्त राजपत्रित अधिकारी कमांडेंट रामस्वरूप यादव भारतीय सेना की मिलिट्री इंटेलीजेंस यूनिट में रहते हुए आसूचना संबन्धित कई महत्वपूर्ण अभियानों को खुफिया तरीके से अंजाम दे चुके हैं। साथ ही ब्लैक कैट कमांडो (NSG) में अपनी प्रतिनियुक्ति के दौरान साल 2018 एवं 2019 में जॉर्डन देश में अमेरिका और चीन समेत 25 देशों के साथ सेना का प्रतिनिधित्व करते हुए अपना युद्ध कौशल दिखा चुके हैं।

सब जूनियर स्विमिंग में नेशनल मेडलिस्ट

कमांडेंट राम स्वरूप यादव के परिवार में माता-पिता के अलावा एक बड़ा भाई, पत्नी व दो बेटे है। पिता भगवानाराम किसान है। बड़ा बेटा 9 साल साहिल सब जूनियर स्विमिंग में नेशनल मेडलिस्ट है। छोटा बेटा 4 साल का प्रिंस है और पत्नी चंपा यादव गृहणी है।

खबरें और भी हैं...