रेपिड एक्शन फोर्स का फ्लैग मार्च:फोर्स ने देखा शहर ताकि जरुरत के वक्त तुरंत लिया जा सके एक्शन, पुलिस ने दी संदिग्ध इलाकों की जानकारी

श्रीमाधोपुर3 महीने पहले

करौली और जोधपुर में हुए दंगों के बाद अब प्रशासन अलर्ट मोड़ पर आ गया है। जिसके चलते श्रीमाधोपुर कस्बे में शनिवार को सीआरपीएफ की रेपिड एक्शन फोर्स टीम ने असिस्टेंट कमांडेट श्रीराम शर्मा व रींगस सीओ सुरेंन्द्र सिंह, सीआई करणसिंह खंगारोत, चौकी इंचार्ज सुभाष चंद्र यादव के नेतृव में फ्लैग मार्च किया।

अचानक हुए फ्लैग मार्च व एक साथ इतने कमांडो को देखकर शहर में चर्चा का विषय हो गया। सीओ सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि क्षेत्र में सीआरपीएफ द्वारा परिचित अभ्यास किया गया है। साथ ही स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर मुख्य बाजारों एवं साम्प्रदायिक रूप से संवेदनशील क्षेत्रों में फ्लैग मार्च किया। ताकि भविष्य में जरूरत पड़ने पर उस स्थान, क्षेत्र में तुरन्त पहुंचकर शीघ्र तथा प्रभावी कार्रवाई की जा सके।

यह फ्लेग मार्च रींगस बाजार, चौपड़ बाजार, गौशाला, पुष्प नगर, होते हुए सुराणी बाजार, खटोङा बाजार, तहसील रोड होता हुआ चौकी पर पहुंचकर संपन्न हुआ। सीआरपीएफ के असिस्टेंट कमांडेट श्रीराम शर्मा ने बताया कि सीआरपीएफ की एक बटालियन 2 दिन से सीकर जिले में आई हुई है। जिसका आज दूसरा दिन है।

सीआरपीएफ के जवान स्थानीय पुलिस के साथ श्रीमाधोपुर कस्बे में परिचय अभ्यास मार्च के तहत फ्लैग मार्च कर कस्बे की भौगोलिक स्थति व यहां की जातीय समीकरण की जानकारी लेकर कस्बे की शांति व्यवस्था से भी परिचित हुए। शर्मा ने बताया कि सरकार का यह उद्देश्य है कि सीआरपीएफ व स्थानीय पुलिस पूरे कस्बे से परिचित हो ताकि भविष्य में किसी प्रकार का कोई साम्प्रदायिक तनाव एवं दंगा की स्थिति घटित होने या प्राकृतिक आपदा होने पर अधिक कारगर ढंग से उस पर नियंत्रण एवं कार्रवाई की जा सके।

खबरें और भी हैं...