पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

20 साल से समस्या:बरसाती पानी निकासी पर हर साल 15 से 20 लाख रुपए खर्च, फिर भी 20 साल से समस्या

तारानगर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • तारानगर में अंबेडकर सर्किल से थाने तक सड़क पर पानी भरने से बंद हो जाती हैं 100 से ज्यादा दुकानें

कस्बे में पानी निकासी के नगर पालिका प्रतिवर्ष लाखों रुपए खर्च करती है, इसके बाद भी जलभराव की समस्या का स्थायी समाधान नहीं हाे रहा है। पिछले 20 वर्षाें से जलभराव की समस्या है। पालिका के अनुसार कस्बे में पानी निकासी एवं नालाें की सफाई के लिए प्रति वर्ष 15 से 20 लाख रुपए खर्च किए जाते हैं। एक तरफ जहां सरकारी पैसाें की बर्बादी हाेती है ताे दूसरी तरफ बरसात का पानी जमा हाेने की वजह से अंबेडकर सर्किल से पुलिस थाने तक बने मार्ग की 100 से ज्यादा दुकानें बंद हाे जाती हैं, इससे व्यापारियाें काे प्रतिदिन लाखाें रुपए का नुकसान हाेता है। अंबेडकर सर्किल-थाना मार्ग की सड़क शहर की प्रमुख सड़क है। इस मार्ग पर सीनियर स्कूल, राजकीय महिला काॅलेज, पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस, उपडाकघर, पुलिस थाना, शिक्षा विभाग कार्यालय, मोबाईल मार्केट, सात्यूं बस स्टैंड, राजकीय इंद्रमणि बालिका स्कूल आदि स्थित हैं। हर बरसात में शहर का पानी इसी स्थान पर जमा हाेता है। 4 जुलाई को हुई 45 एमएम बारिश के बाद वाहन तक नहीं निकल पाए थे।

सीनियर स्कूल में भर जाता है पानी, बालिका स्कूल की दाे बार ढह चुकी दीवार

सबसे ज्यादा परेशानी राजकीय सीनियर स्कूल अाने वाले स्टाफ व विद्यार्थियाें काे हाेती है, स्कूल में पानी घुस जाता है, पूरा परिसर तालाब में तब्दील हाे जाता है। प्रधानाचार्य देवकरण सिंह ने बताया कि बरसाती पानी भराव के चलते स्कूल भवन जर्जर हालत में पहुंच चुके हैं। वहीं इंद्रमणि बालिका स्कूल की दीवार दाे बार ढह चुकी है। सीनियर स्कूल के दक्षिण ब्लाॅक में संचालित महिला काॅलेज का भवन ताे बरसाती पानी से बिल्कुल जर्जर हाे चुका है। पीडब्ल्यूडी ने उक्त भवन काे नाकारा भी घाेषित किया हुअा है।

एकमात्र ड्रेनेज के सहारे पानी निकासी का प्रबंधन : पानी निकासी के लिए नगरपालिका की अाेर से की गई व्यवस्थाएं भी नाकाम हाे गई हैं। पालिका की ओर से सड़क पर जमा बरसाती पानी को निकालने के लिए पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस के पीछे ड्रेनेज बनवाया गया है, जिसमें मोटरों से पाइप के माध्यम से पानी की निकासी कराई जाता है। लेकिन, अाए दिन माेटर खराब हाे जाने की वजह से पानी की निकासी नहीं हाे पाती। ईओ अरुण सोनी का कहना है कि इस बार मानूसन में जलभराव न हाे इसके लिए अतिरिक्त प्रयास किए जाएंगे, ड्रेनेज सिस्टम की व्यवस्थाओं में सुधार कराया जाएगा।

खबरें और भी हैं...