चेक बाउंस के मामले में 1 साल की सजा:कोर्ट ने 1 लाख 45 हजार का जुर्माना भी लगाया

सिरोही4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चेक बाउंस के मामले में कोर्ट ने एक आरोपी को 1 साल के साधारण कारावास की सजा सुनाई है। - Dainik Bhaskar
चेक बाउंस के मामले में कोर्ट ने एक आरोपी को 1 साल के साधारण कारावास की सजा सुनाई है।

चेक बाउंस के मामले में कोर्ट ने एक आरोपी को 1 साल के साधारण कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने आरोपी पर 1 लाख 45 हजार का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना जमा नहीं कराने पर 1 महीने का साधारण कारावास अलग से भुगतना होगा।

परिवादी के वकील ने बताया कि घाची वाड़ा सिरोही निवासी रणछोड़ कुमार पुत्र ओटाराम पुरोहित की तुलसीराम से जान-पहचान थी। उसने रणछोड़ कुमार से किसी काम के लिए 90 हजार रुपए उधार लिए थे और इसके बदले उसने एक चेक दिया था। जब परिवादी ने 16 जून 2013 को चेक को बैंक में लगाया तो बैंक ने खाता बंद होने के नोट के साथ चेक वापिस कर दिया।

परिवादी ने भुगतान के लिए कई बार नोटिस भेजे लेकिन ये नोटिस इस नोट के साथ वापिस लौटते कि वहां यहां नहीं रहकर कहीं बाहर रहता है। इस परिवादी ने कोर्ट में 138 एनआई एक्ट में परिवाद पेश किया। न्यायिक मजिस्ट्रेट सुधीर चौहान ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए तुलसी राम को को 1 साल के साधारण कारावास की सजा सुनाई। कोर्ट ने आरोपी पर 1 लाख 45 हजार का जुर्माना भी लगाया।