नाबालिग से रेप के दोषी को 20 साल की जेल:20 हजार रुपए का लगाया जुर्माना, 13 गवाह और 32 दस्तावेज किए पेश

सिरोही6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पोस्को कोर्ट ने 9 साल की बच्ची से रेप के दोषी को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। - Dainik Bhaskar
पोस्को कोर्ट ने 9 साल की बच्ची से रेप के दोषी को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है।

सिरोही में पोस्को कोर्ट ने 9 साल की बच्ची से रेप के दोषी को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने दोषी पर 20 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है।

पोस्को विशेष कोर्ट के लोक अभियोजक प्रकाश धवल ने बताया कि पिंडवाड़ा थाने में एक व्यक्ति ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि 7 अगस्त 2020 की दोपहर करीब 1 बजे उसकी नाबालिग बेटी खेत से घर की ओर रास्ते से आ रही थी। रास्ते में तालाब फुली आमली निवासी दीताराम (65) ने उसकी बेटी को बुलाया और उसे घर के पीछे बने झोपड़े में ले गया, वहां लेजाकर उसकी बेटी के साथ रेप किया। वहीं दीताराम ने किसी को बताने पर नाबालिग बच्ची को जान से मारने की धमकी भी दी। जिसके बाद नाबालिग घर आकर सो गई। बाद में उसके पेट और अंदरूनी हिस्से में जब दर्द होने लगा तो उसके परिजन इलाज के लिए एक निजी अस्पताल लेकर पहुंचे। वहां महिला डॉक्टर ने सोनोग्राफी के बाद जब उस लड़की से पूछताछ की तो लड़की ने डॉक्टर को सभी बात बताई। बाद में डॉक्टर ने उसके परिजनों को इस बात की जानकारी दी और पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए कहा, लेकिन रात अधिक होने के कारण परिजन उसे लेकर घर वापस लौट गए और बाद में दूसरे दिन 7 अगस्त को पिंडवाड़ा थाने पहुंचकर इस मामले में रिपोर्ट दर्ज करवाई।

पुलिस ने नाबालिग की मेडिकल जांच की, जिसके बाद पुलिस ने जांच रिपोर्ट पोस्को विशेष कोर्ट में पेश की। इस मामले में कोर्ट ने दोनों पक्षों की बहस सुनी। बहस के दौरान लोक अभियोजक प्रकाश धवल ने 13 गवाहों को पेश किया और 32 दस्तावेजों के साथ अपने तथ्यों को कोर्ट के सामने रखा। कोर्ट ने लोक अभियोजक की बात और पेश किए गए तथ्यों से सहमत होकर आरोपी दीताराम को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है और 20 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है।