नसबंदी के दौरान महिला की तबीयत बिगड़ी, मौत:परिजनों ने जताया आक्रोश, डॉक्टर और स्टाफ पर कार्रवाई की मांग

सिरोही6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नसबंदी के बाद महिला की मौत होने पर परिजनों ने शुक्रवार को सिरोही के अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया। - Dainik Bhaskar
नसबंदी के बाद महिला की मौत होने पर परिजनों ने शुक्रवार को सिरोही के अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया।

रेवदर तहसील के दांतराई गांव के सरकारी अस्पताल में 23 नवंबर को शिविर में नसबंदी के दौरान अधिक बल्ड बहने से सीरियस हुई महिला की सिरोही सरकारी अस्पताल रेफर किया गया था। महिला की शुक्रवार को अस्पताल के टॉयलेट में मौत गई। इस परिजनों ने आक्रोश जताया और महिला डॉक्टर सहित अन्य के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

वडवज निवासी करणा राम पुत्र बांका राम मेघवाल ने रेवदर थानाधिकारी के नाम के रिपोर्ट सिरोही पुलिस को सौंपकर बताया कि उसके 2 पुत्र व एक पुत्री हैं। इस पर उसने पत्नी उगम देवी का 23 नवंबर को दांतराई के सरकारी अस्पताल में नसबंदी शिविर के दौरान हुकम देवी की नसबंदी करवाई थी, लेकिन ज्यादा बल्ड बहने के कारण उसे सिरोही अस्पताल में भर्ती करवाया। सिरोही अस्पताल में शुक्रवार सुबह उगम देवी टॉयलेट के लिए जा रही थी उसी समय टॉयलेट के दरवाजे पर गिरकर उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

पुलिस को दी रिपोर्ट में करणा राम ने बताया कि उगम देवी की नसबंदी करने वाले डॉक्टर और अन्य कर्मचारियों की घोर लापरवाही और उपेक्षा पूर्ण कार्य से दूरबीन से गर्भाशय नली काटने या बंद करते समय उसकी आंतों में छेद होने से बल्ड ज्यादा मात्रा में बह गया। खून की कमी से जीवित कोशिका सड़ने से मौत हो गई। रिपोर्ट में बताया कि उगम देवी का फॉरेंसिक टीम से शनिवार को पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। देर शाम करीब 6:15 बजे अधिकारियों के आश्वासन के बाद परिजनों का आक्रोश शांत हुआ।

खबरें और भी हैं...