अंतिम संस्कार की तैयारी, अचानक खुली आंख:परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे, डॉक्टरों ने मृत घोषित किया; तब किया अंतिम संस्कार

सिरोही15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शव के अंतिम संस्कार की तैयारी करते समय आंखें खुली देखी तो परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे। डॉक्टरों ने जांच के बाद मृत घोषित किया तब परिजनों ने अंतिम संस्कार किया। - Dainik Bhaskar
शव के अंतिम संस्कार की तैयारी करते समय आंखें खुली देखी तो परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे। डॉक्टरों ने जांच के बाद मृत घोषित किया तब परिजनों ने अंतिम संस्कार किया।

शव के अंतिम संस्कार की कर रहे थे तैयारी तभी आंखें खुली देखी तो परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे। डॉक्टरों ने जांच के बाद मृत घोषित किया तो परिजनों ने अंतिम संस्कार किया। मामला रेवदर उपखंड मुख्यालय स्थित इंदिरा कॉलोनी का है।

इंदिरा कॉलोनी रेवदर निवासी रेवाराम दर्जी की बीमारी के चलते सोमवार देर शाम को मौत हो गई। रात भर रोते रहे और सुबह उन्होंने अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू की। इसी दौरान किसी की नजर बॉडी पर गई तो उन्हें लगा यह वापस जिंदा हो गया। इस पर परिजन उसे लेकर अस्पताल पहुंच गए। अस्पताल में मौजूद डॉक्टरों ने उसकी ईसीजी करवाई तथा ईसीजी देखने के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। इस पर परिजन वापस उसे लेकर घर लौटे तथा दोपहर को रेवाराम दर्जी का अंतिम संस्कार किया। इधर, मृतक के समाज के लोगों ने कहा अस्पताल पहुंचने के कुछ देर बाद रेवाराम ने दम तोड़ा। मंगलवार देर शाम तक यह मामला लोगों के बीच चर्चा का विषय बना रहा। रेवा राम दर्जी की कस्बे में ही एक दुकान है, जहां वह कई दशक से लोगों के कपड़े सिलता था।