पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हत्या या हादसा!:8 दिन बाद केस, मृतका के भाई ने कहा-चालक की लापरवाही से नहर में गिरी थी कार, हुईं 4 मौतें

हनुमानगढ़17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नहर में कार गिरने से 4 की मौत मामले में नया मोड़, चालक के बयान बदलने से संदेह

गांव लखूवाली रोही में इंदिरा गांधी कार नहर में गिरने से चार लोगों की डूबने से मौत मामले में नया मोड़ आ गया है। मामले में मृतक महिला रेणु के भाई श्रीविजयनगर निवासी रमेश कुमार पुत्र जगदीश सिडाना ने कार चलाने वाले शिक्षक रमेश स्वामी के खिलाफ गैर इरादत्तन हत्या का मामला दर्ज कराया है। एफआईआर में कार चला रहे रमेश स्वामी की लापरवाही से चारों की मौत होने का कारण बताया गया है।

वहीं, हादसे के बाद से चालक रमेश पहले से ही पुलिस के रडार पर है जिसने लघुशंका करने के लिए खुद गाड़ी से नीचे उतरने और ढलान पर खड़े होने के कारण कार के नहर में गिरने की बात कही थी। रमेश ने बताया कि उसकी बहन रेणु, बहनोई विनोद अरोड़ा 9 फरवरी को बेटी दीया को सीएलसी सीकर में पढ़ाई के लिए गए थे। छोटी बेटी इशिका भी उनके साथ गई थी। शाम 5.30 बजे संगरिया के लिए रवाना हुए। इस दौरान बहन रेणु के मोबाइल पर बात भी हुई थी। उनके साथ परिचित अध्यापक संदीप भाटी की पत्नी सुनीता भी थी।

रात करीब 7-8 बजे के बीच उसके छोटे भाई गुलशन सिडाना ने भी जीजा विनोद बाघला के मोबाइल पर बात की थी। उन्होंने कहा कि 10.30 बजे तक संगरिया पहुंच जाएंगे। इसके बाद बहनोई की माता कलावती देवी ने संगरिया में अपने पड़ोसी भारतभूषण छाबड़ा व उनके बेटे रवि छाबड़ा को आकर कहा कि 8.15 बज गए हैं अभी तक वे आए हैं उनको फोन करो। तब रवि ने अपने मोबाइल से विनोद को 8.21 व 8.22 बजे दो बार कॉल की पर फोन नहीं उठाया।

8.29 बजे भारतभूषण ने भी कॉल की पर नहीं उठाया। रात 9.41 बजे सुनीता भाटी ने अपने मोबाइल से पति संदीप भाटी से बात कर बताया कि रावतसर पहुंचने वाले हैं। 10.01 बजे सुनीता ने दुबारा कॉल कर बताया कार नहर में गिर गई है, पूछा-कहां गिरी है तो बताया रावतसर क्रॉस करके है। सुनीता ने ही पति संदीप भाटी को बताया कि रमेश ड्राइवर को मैंने गाड़ी पीछे रोकने को कहा था वो आगे ले आया। उन्होंने उसके साथ बैठी उसकी बहन के परिवार में से किसी को कहा कि शीशे मत खोलना पानी आ जाएगा।

इसके बाद हाय गया और फोन कट गया। संदीप ने बताया कि किसी और की चीखने की आवाज नहीं आ रही थी। संदीप ने मौके पर पहुंच रमेश से बात की तो उसने बताया कि कार साइड में खड़ी कर पेशाब करने गया था तभी अचानक कार अपने आप लुढ़क कर नहर में गिर गई। बकौल, रमेश उसने कई वाहनों को रोकने का प्रयास किया, कोई नहीं रुका तब चौटाला के दारासिंह को फोन किया तो घटना का पता चला।

पैरेलल इन्वेस्टिगेशन: घटना स्थल पर पहुंचा भास्कर, सीन री-क्रिएट, कार वैसे ही रुकवाई, हैंडब्रेक भी नहीं लगाया, फिर भी अपने आप नहर की तरफ नहीं गई गाड़ी

भास्कर टीम की ओर से अबूझ पहेली बने इस घटनाक्रम की पड़ताल के लिए लखूवाली में इंदिरा गांधी नहर की पटड़ी पर इनोवा कार के साथ पहुंचकर क्राइम सीन रिक्रिएट किया गया। इसमें गाड़ी को नहर की तरफ मुंह करके बिना हैंडब्रेक लगाए गाड़ी को छोड़ा गया। वहीं तीन नंबर गियर लगाकर भी कार को नहर की पटड़ी पर नहर की तरफ खड़ा किया गया। हर एंगल पर बारीकी से पड़ताल की गई। इसमें किसी भी एंगल से कार नहर की तरफ नहीं गई।

इसमें यह भी देखा गया कि अगर रावतसर की तरफ से कोई वाहन आ रहा है तो सड़क के किनारे गाड़ी खड़ी करता है तो सामने पुल की दीवार है जिससे भी गाड़ी नहर में खुद ही नहर में नहीं जा सकती है। वहां से गुजरने वाले वाहन चालकों का भी मानना था कि खड़ी गाड़ी नहर में नहीं जा सकती है चाहे वह किसी भी तरह से खड़ी की हुई हो। ऐसे में पुलिस को नए सिरे से मामले की जांच करते हुए तह तक जाने की जरूरत है ताकि मामले का खुलासा हो सके।

भास्कर ने पूरे मामले की तह तक जाकर पड़ताल की, ये 6 सवाल जो अब भी बने हैं पहेली

1. मृतका सुनीता भाटी के पति संदीप ने बताया कि जब पत्नी से आखिरी बात हुई तब उसके अलावा किसी और के चीखने की आवाज नहीं आ रही थी।

2. विनोद के पड़ोसियों ने एक घंटे में तीन बार कॉल के बाद भी कॉल अटेंड नहीं हुई जबकि सुनीता की अपने पति के साथ दो बार बात हुई।
3. मृतक विनोद के दोस्त कार चालक शिक्षक रमेश स्वामी ने प्रारंभिक तौर पर पुलिस को बयान में उलझाने की कोशिश की। अलग-अलग बयान दिया।

4. कार पुल से पटड़ी पर नहर की तरफ ही क्यों खड़ी की गई। हैंडब्रेक नहीं लगाई। निकाली तब तीसरा गियर लगा हुआ था।
5. मृतक परिजनों ने रमेश से बात की तो कभी उसने कहा कि विनोद ने खुद ड्राइव करने के लिए गाड़ी रुकवाई। कभी पेशाब करने के लिए गाड़ी रोकने की बात कही।

6. सीकर से संगरिया का कार पर सफर करीब 4.30 घंटे का है, सीकर से रावतसर तक इतना समय कैसे लग गया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें