पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खुशियों का पानी:60 दिन बाद आईजीएनपी में 7 हजार क्यूसेक पानी, लखूवाली पहुंचा बिरधवाल हेड पर बनाएंगे पौंड

हनुमानगढ़25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फोटो लखूवाली हैड की। पंजाब से छोड़े गए पानी ने राजस्थान राज्य में प्रवेश किया। अगले दिनों में पानी 10 जिलों में पहुंच जाएगा। फोटो|दिनेश नैण - Dainik Bhaskar
फोटो लखूवाली हैड की। पंजाब से छोड़े गए पानी ने राजस्थान राज्य में प्रवेश किया। अगले दिनों में पानी 10 जिलों में पहुंच जाएगा। फोटो|दिनेश नैण
  • आईजीएनपी में 10 जून तक मिलेगा पेयजल, पहली तस्वीर सिर्फ भास्कर में

इंदिरा गांधी नहर परियोजना में 60 दिन बाद लखूवाली हेड पर पानी पहुंच गया। हालांकि राजस्थान में अप्रैल में सरहिंद फीडर के माध्यम से आईजीएनपी में पेयजल के लिए 2 हजार क्यूसेक पानी दिया गया, लेकिन पंजाब में 60 दिन की पूर्ण बंदी रही। हरिके से पानी की मात्रा भी लगातार बढ़ाई जा रही है।

रविवार शाम को हरिके से इंदिरा गांधी नहर में पानी की मात्रा बढ़ाकर 7 हजार क्यूसेक कर दी गई। एक दिन पहले 6 हजार क्यूसेक पानी ही दिया जा रहा था। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों के अनुसार 10 जून तक इंदिरा गांधी नहर परियोजना और भाखड़ा प्रणाली में पीने के लिए पानी दिया जाएगा। सोमवार को पानी बिरधवाल हेड पहुंच जाएगा। यहां पौंड लेवल मैंटेन कर सबसे पहले कंवरसेन लिफ्ट में पेयजल आपूर्ति की जाएगी। इसके बाद अन्य नहरों में पेयजल के लिए पानी छोड़ा जाएगा। इंदिरा गांधी नहर में छोड़े गए पानी की लगातार जल संसाधन विभाग के अधिकारी मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

पंजाब में आरडी 370 पर लाइनिंग को भी और मजबूत किया जा रहा है। रविवार को दिनभर मिट्टी के थैले लगाने का काम जारी रहा। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि लाइनिंग धंसने से पानी की आपूर्ति प्रभावित नहीं होगी। लगातार निगरानी भी की जा रही है।

इस पानी की अहमियत; आईजीएनपी क्षेत्र के नागरिकों को मिली बड़ी राहत, प्राथमिकता से होगी पेयजल सप्लाई

1. इंदिरा गांधी नहर परियोजना में 10 जून तक 7200 क्यूसेक पानी पीने के लिए दिया जाएगा। इस क्षेत्र में एक महीने से पेयजल सप्लाई बंद थी। पेयजल के लिए हाहाकार मचा हुआ था।

2. 10 दिनों में सभी वितरिकाओं में जलापूर्ति कर दी जाएगी। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों के अनुसार सिंचाई के लिए अभी तक भाखड़ा और आईजीएनपी का रेगुलेशन निर्धारित नहीं किया गया है।

3. ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के हेड वर्क्सों में पानी का भंडारण करवाया जाएगा। 10 जून से पहले एक बार फिर बीबीएमबी की बैठक होगी। इसमें 11 जून से मिलने वाले पानी के शेयर पर चर्चा की जाएगी।

बंदी शुरू होने से अब तक का सफर

29 मार्च

राजस्थान फीडर में हरिके से पानी बंद किया गया।

02 अप्रैल

सरहिंद फीडर से 2 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा।

30 अप्रैल

इंदिरा गांधी नहर में पूर्णतया बंदी शुरू हुई।

28 मई

हरिके से 2 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया।

30 मई

पानी की मात्रा बढ़ाकर 7 हजार क्यूसेक की।

हरिके से पानी की मात्रा बढ़ी, सबसे पहले पेयजल आपूर्ति दी जाएगी: एक्सईएन
रेगुलेशन खंड प्रथम के एक्सईएन लखपतराय ने बताया कि हरिके से इंदिरा गांधी नहर में पानी की मात्रा लगातार बढ़ाई जा रही है। एक-दो दिनों में तय शेयर के अनुसार पानी मिलना प्रारंभ हो जाएगा। आईजीएनपी में लखूवाली हेड से पानी क्रॉस कर गया है। बिरधवाल हेड पर पौंड बनाकर नहरों को चलाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...