विरोध प्रदर्शन:सिख मर्यादा के खिलाफ काम से नाराज, सौंपा कलेक्टर को ज्ञापन

हनुमानगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक नूर खालसा फौज ने तहसीलदार से सिख मर्यादा के विपरीत कार्य न करने की मांग उठाई

तहसीलदार को सिख मर्यादा के विपरीत कार्य न करने की मांग को लेकर एक नूर खालसा फौज ने शनिवार को कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। प्रदेश प्रवक्ता कुलदीप सिंह ने बताया कि सिख रहत मर्यादा श्री अकाल तख्त साहिब से प्रमाणित है और 2015 में केंद्र सरकार द्वारा सिख की परिभाषा का वर्णन कर बिल पास किया गया है जिस अनुसार सिख केवल सिख है इसमें कोई भी जाति सूचक विचारधारा नहीं है।

गांव धोलीपाल गुरुद्वारा में हरप्रीत सिंह ग्रंथि की सेवा का निर्वाह करते थे। इन्होंने रोडावाली क्षेत्र में कुछ जमीन हासिल की और वहां स्कूल की स्थापना कर दी। अब सिख मर्यादा के अनुसार भिक्षा, दीक्षा मांगना वर्जित होता है। गुरुद्वारा साहिब के प्रबंधक या गुरुद्बारा साहिब के ग्रंथी के स्पीकर से अनाउसमेंट करते हैं तो इस कार्य के लिए संगठन व गावं से सेवा प्राप्त कर सकेगा।

उन्होंने बताया कि अकाल तख्त साहिब की मर्यादा के अनुसार सिख परिभाषा है उसका वर्णन समझकर न्याय करें ताकि आगे से कोई भी अमृतधारी सिख जो एससी, एसटी व ओबीसी से संबंध रखता हो वह ऐसा विषय बनाकर न लाए। क्योंकि अमृतधारी की कोई जाति नहीं है वह जाति बंधन से मुक्त है। इस मौके पर कुलदीप सिंह औलख, गुरजंट सिंह, बलदेव सिंह, कौर सिंह, विक्रम सिंह, गुरदेव सिंह, कुलवीर सिंह, कुलविन्द्र ढिल्लों, रेशम माणुका, कुलदीप ढिल्लों, छिंदा ढिल्लों, बिन्द्र सिंह खालसा आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...