पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर पड़ताल:रुपए 329 करोड़ से 400 केवी का जीएसएस बनाने की 6 माह पहले घोषणा हुई, अभी भूमि तक नहीं मिल पाई

हनुमानगढ़11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में लग रहे बिजली कट के बीच बजट घोषणाओं का हश्र देखिए

6 माह पहले मुख्यमंत्री ने बजट में घोषणा कर हनुमानगढ़ में 329 करोड़ की लागत से बनने वाले 400 केवी ग्रिड सब स्टेशन बनाने की बात कही थी। आपको जानकार हैरानी होगी कि यह प्रोजेक्ट अभी तक ठंडे बस्ते में पड़ा है। ख़ास बात यह है कि इस प्रोजेक्ट को प्रशासनिक स्वीकृति भी मिल चुकी है लेकिन 6 माह बाद भी भूमि अवाप्ति की प्रक्रिया भी पूरी नहीं हुई है।

ख़ास बात यह है कि इस सब स्टेशन बनने के बाद हम अधिक पॉवर वाली बिजली लेने में सक्षम हो जाएंगे। बिजली आपूर्ति के लिए ट्रांसमिशन सिस्टम और बेहतर होता। आने वाले समय में इसका फायदा अन्य क्षेत्रों को भी मिलेगा।

क्योंकि, वर्तमान में 200 किलोमीटर की परिधि में कोई भी 400 केवी का विद्युत सब स्टेशन स्थापित नहीं है। इस कारण पूरे जिले में गर्मियों में वोल्टेज समस्या व बिजली कटौती से आमजन को जूझना पड़ता है। इसके शुरू होने के बाद घरेलू और कृषि उपभोग के लिए निर्बाध बिजली मिल सकेगी।

बिजली कटौती से जूझ रहे आमजन और किसानों को जीएसएस से ये होंगे 2 बड़े फायदे

1. राइस बेल्ट के किसानों को होगा फायदा और लो-वोल्टेज की समस्या खत्म होगी

धान की फसल पकाने के लिए किसानों को अधिक बिजली की ज़रुरत होती है। वर्तमान में किसानों को भी बिजली कटौती से जूझना पड़ रहा है। क्योंकि जून, जुलाई, अगस्त और सितंबर माह धान का सीजन है। इसी वक्त गर्मी भी अपने चरम पर होती है। घरेलू उपभोक्ता भी बिजली का दोगुना उपभोग करते हैं।

दूसरी तरफ किसानों के लिए यही मुख्य सीजन होता है। किसान ट्यूबवेल के जरिए फसलों को पानी देते हैं और इसलिए उन्हें बिजली की सख्त ज़रुरत होती है। सब स्टेशन बनने के बाद किसानों को भी निर्बाध बिजली मिल सकेगी। घरेलू उपभोक्ताओं को लो-वोल्टेज की समस्या भी नहीं रहेगी।

2. अभी 220 केवी की लाइनोंं से आती है बिजली, स्टेशन बनने के बाद में 400 केवी से मिलेगी

राजस्थान राज्य विद्युत प्राधिकरण निगम के अनुसार 400 केवी ग्रिड सब स्टेशन में 500 एमवीए के दो बड़े ट्रांसफार्मर रखे जाएंगे। सब स्टेशन के लिए 20 हेक्टेयर भूमि की ज़रुरत होगी। वर्तमान में गर्मी के दिनों में इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी के चलते हम अधिक पॉवर नहीं ले सकते हैं।

अभी हमारे जिले में 220 केवी लाइन से बिजली आती है जो 3 मुख्य जीएसएस पर जाती है। सब स्टेशन बनाने के बाद हमारे जिले को 400 केवी की लाइन के जरिए बिजली मिलेगी। विदित रहे कि वर्तमान में हम थर्मल प्लांट से अधिक बिजली लेना भी चाहें तो जिले के पास उस बिजली को झेलने के भी सिस्टम नहीं है। सब स्टेशन बनने के बाद हमारा जिला थर्मल प्लांट से अधिक पॉवर लेने में सक्षम हो जाएगा।

दो जिलों का पहला 400 केवी ग्रिड सब स्टेशन होगा

वर्तमान में हमारे जिले की 200 किमी की परिधि में एक भी सब स्टेशन नहीं है। रतनगढ़ और बीकानेर में सब स्टेशन बने हुए हैं जिनका हमारे जिले को कुछ ख़ास लाभ नहीं मिल पाता है। घोषणा के हिसाब से जिले में इस ग्रिड सब स्टेशन बन जाने के बाद हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर का पहला 400 केवी ग्रिड सब स्टेशन होगा। इसके निर्माण से हनुमानगढ़ का ट्रांसमिशन सिस्टम और अधिक मजबूत हो जाएगा। श्रीगंगानगर को भी इसका भरपूर लाभ मिलेगा।

भूमि चयन करने की प्रक्रिया शुरू की गई है: एक्सईएन

मुख्यमंत्री द्वारा बजट में की गई घोषणा की अनुपालना में प्रशासनिक स्वीकृति जारी हो गई है। हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर दोनों जिलों के लिए यह सब स्टेशन बेहद अहम प्रोजेक्ट है। अब हर स्तर से सब स्टेशन निर्माण का रास्ता साफ हो चुका है। हमने भूमि चयन करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। जल्द ही निर्माणकार्य से जुड़ी हर कार्यवाही शुरू की जाएगी। -बिहारी लाल नायक, एक्सईएन, राराविप्रानि।

महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट, जल्द निर्माण कार्य शुरू करवाएंगे: विधायक

यह बहुत ही महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट है। भूमि चयन को लेकर कार्रवाई चल रही है, कोई भी बड़ा प्रोजेक्ट होता है उसकी शुरुआत होने में देरी होना स्वाभाविक है। जल्द से जल्द भूमि अवाप्त कर कार्य शुरू करवाने का प्रयास किया जा रहा है। इस संबंध में अधिकारियों से वार्ता कर निर्देशित किया जा रहा है। यह प्रोजेक्ट शुरू होने के बाद जिले के नागरिकों को निर्बाध बिजली मिल सकेगी। -चौधरी विनोद कुमार, विधायक, हनुमानगढ़।



खबरें और भी हैं...