पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लॉकडाउन में राहत:जिले में 5.97 लाख एमटी गेहूं की सरकारी खरीद, 90% लक्ष्य पूरा, 32210 किसानों को 965 करोड़ का भुगतान

हनुमानगढ़22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 30 जून तक होगी सरकारी खरीद, अब तक 39 हजार किसान समर्थन मूल्य पर बेच चुके उपज

कोरोना संक्रमण रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के बावजूद जिले में अब तक गेहूं की तय लक्ष्य के मुकाबले 90 फीसदी सरकारी खरीद हो चुकी है। सरकारी खरीद की अवधि 30 जून तक तय है। खरीद प्रक्रिया के अनुसार तय समय से पहले ही लक्ष्य के अनुरूप खरीद होने की उम्मीद है। खरीद सुचारू चलने से काश्तकारों को भी बड़ा संबल मिला है। अब तक किसानों के खातों में करीब एक हजार करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं। जानकारी के अनुसार जिले में एफसीआई, तिलम संघ और नैफेड की ओर से 18 केंद्रों पर खरीद की जा रही है।

29 मई तक 39 हजार 58 किसान 5 लाख 97 हजार 54 मीट्रिक टन गेहूं तीनों एजेंसियों को बेच चुके हैं। गेहूं खरीद की एवज में सरकारी एजेंसियों ने 32 हजार 210 किसानों के खातों में 965.93 करोड़ रुपए जमा करवा दिए हैं। यानी 4 लाख 89 हजार 79.21 मीट्रिक टन गेहूं का भुगतान किसानों को किया जा चुका है। सर्वाधिक 27 हजार 891 किसानों को एफसीआई ने 816.85 करोड़ का भुगतान किया सहै। तिलम संघ की ओर से 459 किसानों को 15.56 करोड़ और नैफेड की ओर से 3860 किसानों को 133.52 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया है। नैफेड की भुगतान प्रक्रिया काफी धीमी होने से किसानों में रोष है। एकमात्र संगरिया केंद्र पर नैफेड की ओर से गेहूं की खरीद की जा रही है। 29 मई तक यहां 1 लाख 3 हजार 816.40 एमटी गेहूं की खरीद की गई जिनमें से भुगतान 67 हजार 606.30 मीट्रिक टन का ही किया गया है।

श्रीगंगानगर की बजाए हनुमानगढ़ में अब तक करीब 15 हजार एमटी गेहूं की ज्यादा खरीद हो चुकी है। श्रीगंगानगर में 35 केंद्रों पर खरीद कार्य चल रहा है, जबकि हनुमानगढ़ में 18 सेंटरों पर ही खरीद की जा रही है। श्रीगंगानगर में 29 मई तक 5 लाख 82 हजार 637.65 एमटी गेहूं की सरकारी खरीद हुई, जबकि हनुमानगढ़ में 5 लाख 97 हजार 54 एमटी गेहूं की खरीद हो चुकी है। श्रीगंगानगर में एफसीआई ने 3 लाख 81 हजतार 172 एमटी, राजफेड ने 6816 एमटी और तिलम संघ की ओर से 1 लाख 74 हजार 19.45 एमटी गेहूं की खरीद की गई है।

हनुमानगढ़ में भी एफसीआई ने सर्वाधिक 4 लाख 82 हजार 568.60 एमटी, तिलम संघ ने 10 हजार 699 और नैफेड ने 1 लाख 3 हजार 816.40 एमटी गेहूं की खरीद की गई है।

उठाव की स्थिति...जिले के 18 केंद्रों पर 46757 एमटी गेहूं का नहीं हुआ उठाव, सबसे ज्यादा संगरिया में बकाया

जिले के सभी 18 केंद्रों पर उठाव काफी धीमी गति से हो रहा है। हालांकि खरीद एजेंसियों के प्रतिनिधियों का कहना है कि ज्यादा उठाव बकाया नहीं है। गेहूं की आवक भी कम हो गई है। ऐसे में किसानों को ढेरी करने में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हो रही। 14 केंद्रों पर एफसीआई, तीन केंद्रों पर तिलम संघ और एक केंद्र पर नैफेड की ओर से गेहूं की खरीद की जा रही है।

एफसीआई के 14 खरीद केंद्रों पर 27 हजार 302.90 एमटी गेहूं का 29 मई तक उठाव नहीं हुआ। सबसे ज्यादा नैफेड की ओर से खरीदे जा रहे गेहूं की उठाव की गति धीमी है। संगरिया में नैफेड खरीद कर रही है और अब तक 19 हजार 167.80 एमटी गेहूं मंडी में पड़ा है। तिलम संघ का अब तक 893.85 एमटी उठाव बकाया है।

खबरें और भी हैं...