किसान संगठनों ने जिले में कई जगह किया चक्का जाम:वाहनों की लगी लम्बी कतारें, पुलिस ने ट्रैफिक को डायवर्ट कर निकाला, लोग हुए परेशान, सोमवार को हुए लाठीचार्ज के विरोध में किसानों का आंदोलन

हनुमानगढ़15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डबली टोल प्लाजा पर मौजूद किसान। - Dainik Bhaskar
डबली टोल प्लाजा पर मौजूद किसान।

हनुमानगढ़ जिला कलेक्ट्रेट पर किसानों पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में गुरुवार को किसानों ने पूर्व घोषणा के अनुसार कई जगह चक्का जाम कर दिया। किसानों की ओर से सुबह 11 बजे चक्का जाम की घोषणा की गई थी। इस पर अमल करते हुए किसान संगठनों ने जिले में अलग-अलग जगहों पर वाहनों की रफ्तार रोक दी।

जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय के नजदीक कोहला टोल प्लाजा, डबली राठान के अलावा धौलीपाल, टोपरियां, रावतसर, पीलीबंगा और भादरा में अमरपुरा के पास चक्का जाम किया गया। इससे वाहनों की लंबी कतार लग गई। कुछ जगहों पर पुलिस ने ट्रैफिक को डायवर्ट कर निकाला। हालांकि बाजार सामान्य दिनों की तरह खुले रहे, क्योंकि सिर्फ चक्का जाम ही किया गया और बाजार बंद नहीं करवाए गए।

अलग-अलग जगह सभाओं को संबोधित करते हुए किसान नेताओं ने कहा कि जिला प्रशासन किसानों के सब्र का इम्तिहान ले रहा है। ऐसा है तो किसान भी पीछे नहीं हटेंगे।

यह है किसानों की मांगें
- धान सहित अन्य फसलों की सरकारी खरीद को लेकर तुरंत निर्णय लिया जाए।
- किसानों पर लाठीचार्ज करने वाले जंक्शन थाना प्रभारी की भूमिका की जांच कर हटाया जाए।
- निजी कंपनियों को ठेके पर दिए गए सेंट्रल वेयर हाउस के गोदाम वापस लिए जाएं।

7 अक्टूबर को चक्का जाम की घोषणा:किसानों ने कलेक्ट्रेट के सामने बिछाया धान, लाठीचार्ज की घटना में आरपार की लड़ाई के मूड में आए किसान

किसानों पर लाठीचार्ज:धान की सरकारी खरीद की मांग, कलेक्ट्रेट का गेट बंद करने पर पुलिस से धक्का-मुक्की, 4 किसान और 2 जवान जख्मी

खबरें और भी हैं...