पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शहर के लिए राहत:टाउन में अधूरे सीवरेज प्रोजेक्ट को पूरा करवाने के लिए नप तैयार, आरयूआईडीपी से मांगे साढ़े ~8 करोड़

हनुमानगढ़11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • टाउन में 4 वर्ष से ठप पड़ा है सीवरेज प्रोजेक्ट का सेकंड फेज, बजट मिलते ही नप करवाएगी मिसिंग लिंक जोड़ सीवरेज शुरू कर कनेक्शन देने का काम

टाउन में चार वर्षों से ठप सीवरेज प्रोजेक्ट के पूरा होने की उम्मीद जगी है। नगरपरिषद ने यह प्रोजेक्ट अब अपने हाथ में लेने की तैयारी कर ली है। इसके लिए नगरपरिषद ने आरयूआईडीपी से अधूरे प्रोजेक्ट को पूरा कर शुरु करने की लागत के तौर पर करीब साढ़े आठ करोड़ रुपए की डिमांड की है।

अधिकारियों के मुताबिक परिषद की ओर से दिए गए प्रपोजल को डीपीआर के साथ मंजूरी के लिए राज्य सरकार को भिजवा दिया गया है जिसकी स्वीकृति मिलते ही परिषद काम शुरू करवा सकेगी। यहां बता दें कि टाउन में भारत माता चौक से ट्रैफिक थाना तक 12 सौ मीटर मिसिंग लिंक, सैनी अस्पताल से बीज निगम गोदाम तक जोड़े जाने वाले मिसिंग लिंक जोड़ने और पंपिंग स्टेशन का काम पिछले चार वर्षों से अटका पड़ा है।

खास बात है कि टाउन क्षेत्र में सीवरेज का कार्य वर्ष 2012 में पूरा किया जाना था लेकिन नौ वर्ष बाद भी अटका हुआ है। यहां बता दें कि नगरपरिषद को सीवरेज कनेक्शन के लिए आरयूआईडीपी चार करोड़ 80 लाख रुपए की स्वीकृति दे चुकी है।

इसमें एक किश्त भी परिषद को हस्तांतरित हो चुकी है। ऐसे में मिसिंग लिंक नहीं जोड़े जाने के बगैर कनेक्शन भी नहीं हो पा रहे हैं। टाउन में 45 सौ कनेक्शन किए जाने हैं। सीवरेज प्रोजेक्ट का सेकंड फेज का काम बीच में छोड़ने पर आरयूआईडीपी ने संबंधित ठेकेदार फर्म से 2 करोड़ 13 लाख रुपए की पैनल्टी वसूल की थी।

आरयूआईडीपी एसई

आरयूआईडीपी एसई आशीष गुप्ता का कहना है कि नगरपरिषद ने टाउन में सीवरेज प्रोजेक्ट के सेकंड फेज का अधूरा काम खुद के स्तर पर पूरा करवाने का प्रपोजल दिया है जिसे ओके कर मंजूरी के लिए मुख्यालय स्तर से राज्य सरकार को भिजवाया गया है। परिषद को डिमांड राशि सरकार के निर्देश पर ही हस्तांतरित होगी।

नगर परिषद एक्सईएन

नगरपरिषद एक्सईएन सुभाष बंसल का कहना है कि टाउन में सेकंड फेज के अधूरे प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए नगरपरिषद ने आरयूआईडीपी को प्रपोजल भिजवाया है। इसके लिए परिषद ने 8.50 करोड़ रुपए की डिमांड की है। राशि मिलते ही सीवरेज टेकओवर कर परिषद अपने स्तर पर काम पूरा करवाएगी।

इधर, जंक्शन में कानूनी दांव पेंच में उलझे 281 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट को लेकर उच्चस्तर पर चल रही वार्ता

शहर में ठप हुए 281 करोड़ रुपए के थर्ड फेज के सीवरेज और पेयजल प्रोजेक्ट कानूनी दांवपेच में उलझा हुआ है। टर्मिनेट का नोटिस मिलने के बाद ठेकेदार ने नोटिस को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। इस बीच एग्रीमेंट के दौरान ठेकेदार फर्म की ओर से दी गई बैंक गारंटी की राशि देने से बैंक ने इंकार कर दिया था। इसके बाद से यह प्रोजेक्ट भी उलझा हुआ है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि इसको लेकर उच्च स्तर पर वार्ता चल रही है लेकिन काम कब पूरा होगा इसको लेकर किसी के पास कोई जवाब नहीं है। ​​​​​​​

खबरें और भी हैं...