पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शर्मसार:बाथरूम में हुई महिला की प्री-मैच्योर डिलीवरी, एमसीएच यूनिट की छत पर मिला नवजात, प्रत्यक्षदर्शी- कुत्ते ले गए, नोच डाला

हनुमानगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इतना वीभत्स हाथ-मुंह नोचे, ये काम इंसान का नहीं । - Dainik Bhaskar
इतना वीभत्स हाथ-मुंह नोचे, ये काम इंसान का नहीं ।
  • जिला अस्पताल में रात 12 से 1 बजे के बीच की घटना, गोलूवाला की है प्रसूता, अस्पताल प्रशासन बोला-मामले की करवा रहे जांच

टाउन के सबसे बड़े जिला अस्पताल में इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। शुक्रवार रात 1 बजे एमसीएच यूनिट की छत पर एक नोचा हुआ नवजात मिला। अस्पताल में मौजूद लोगों ने जब इस खौफनाक मंजर को देखा तो उनके होश उड़ गए।

प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो लेबर रूम से नवजात शिशु को एक कुत्ता अपने मुंह में दबाए हुए छत पर ले गया और उसे पूरी तरह नोच दिया। उन्होंने कुत्ते का पीछा कर उसके चंगुल से नवजात को छुड़वाया।

हद तो तब हो गई जब उस बच्चे को उठाने के लिए ना तो अस्पताल स्टाफ, ना ही नर्स और ना गार्ड मौजूद था। अंत में परिजन ही उस मृत बच्चे को थैली में डालकर ले गए। हैरानी की बात ये है कि पूरा मामला सामने आने के बाद अस्पताल प्रशासन सफाई देता रहा कि कुत्ता अस्पताल में आया ही नहीं था और महिला ने मृत बच्चे को जन्म दिया था।

अब बड़ा सवाल यह है कि नवजात शिशु को कुत्ता नहीं लेकर गया तो वह आखिर छत पर कैसे पहुंचा? वहीं शनिवार दोपहर कलेक्टर जाकिर हुसैन जिला अस्पताल पहुंचे और डॉक्टर्स को पूरे मामले की रिपोर्ट पेश करने के लिए पाबंद किया है।

इतना वीभत्स हाथ-मुंह नोचे, ये काम इंसान का नहीं

शिशु का शव छत पर बुरी तरह से क्षत-विक्षत मिला। उसके दोनों पांव, एक हाथ उसके शरीर से अलग थे। जैसे किसी ने खींच कर अलग किए हो। मुंह पूरी तरह से कुचला था, सिर का ऊपरी हिस्सा भी आधा ख़त्म था।
बड़ा सवाल: बच्चा मृत भी था ताे छत पर कैसे पहुंचा
अस्पताल स्टाफ होने के बाद भी एक नवजात बच्चा लेबर वार्ड से होकर छत तक पहुंच जाता है लेकिन किसी को इसकी भनक तक नहीं लगती। हंगामे के बाद भी स्टाफ में से एक भी व्यक्ति स्थिति का जायजा लेने नहीं आया। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि उन्होंने स्टाफ नर्स से लेकर गार्ड को ढूंढा, उन्हें कोई नहीं मिला। पुलिस को फोन भी किया लेकिन उन्होंने गश्त पर होना बता कर पल्ला झाड़ लिया।

दृश्य ऐसा कि रूह कांप जाए, अंगों को बटोरा, थैली में डाल ले गई परिजन महिला
वार्ड की छत पर मृत बच्चा मिलने की खबर परिसर में आग की तरह फैल गई थी। परिजनों को उम्मीद थी कि स्टाफ इस स्थिति में उनका साथ देगा लेकिन वहां कोई मौजूद नहीं था। करीब आधे घंटे तक चले इस हंगामे के बाद परिजनों में से ही एक महिला छत पर आई। एक झलक उस बच्चे को देख अपने दोनों हाथों से सिर पकड़ कर बैठ गई। इसके बाद जैसे-तैसे खुद को संभालते हुए पहले एक कपड़े में मृत शिशु को रखा और एक थैली में डालकर अपने साथ ले गई।

अंगों को बटोरा, थैली में डाल ले गई परिजन महिला
अंगों को बटोरा, थैली में डाल ले गई परिजन महिला

हम लेबर वार्ड के बाहर बैठे थे। इसके बाद पता लगा कि बाथरूम में प्री-मेच्योर डिलीवरी हुई है। स्टाफ में से पता नहीं किसी ने वह बच्चा उठाकर बाथरूम में बाहर ही रख दिया। थोड़ी देर बाद सूचना मिली की बच्चा अस्पताल की छत पर है और परिसर में अफरा-तफरी मच गई। बच्चा छत पर कैसे गया यह हमें नहीं पता है।
(जैसा की परिजनों ने भास्कर को बताया)

ये था पूरा मामला: दरअसल, गोलूवाला की रहने वाली एक महिला को प्रेगनेंसी होने पर तीन दिन पहले अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रात को करीब 12 बजे बाद महिला बाथरूम में गई तो प्री-मेच्योर डिलीवरी हो गई और बच्चा बाथरूम में गिर गया। दर्द अधिक होने से महिला उसी समय बेहोश हो गई थी। इसके बाद यह नवजात वार्ड की छत पर नोची हुई हालत में मिला था।

पुलिसकर्मियों ने कहा-ज्यादा शोर मत करो, मामले को यहीं रफा-दफा कर दो: प्रत्यक्षदर्शी
हम अस्पताल में बैठे थे तो देखा सीढिय़ों पर से एक कुत्ता अपने मुंह में नवजात शिशु को दबाए ऊपर छत की भाग रहा था। हम उसके पीछे भागे तब तक वह छत पर पहुंच चुका था और बच्चे को नोच रहा था। बड़ी मुश्किल से उस कुत्ते को वहां से भगाया और बच्चे को छुड़ाया।

इसके बाद हम गार्ड और स्टाफ को बुलाने गए लेकिन वार्ड में कोई नहीं दिखाई दिया तो हमने पुलिस को फोन किया। उन्होंने कहा कि डॉक्टर को फोन करो। इसमें हम कुछ नहीं कर सकते। इसके बाद हमने एक अन्य जने को कहा तो उसने अस्पताल में बनी चौकी पर जाकर सूचना दी।

कुछ देर बाद परिजनों में से औरत आई और बच्चे को थैली में डालकर ले जाने लगी। स्टाफ नर्स कोई नहीं आया। इसके बाद पुलिस पहुंची। उन्होंने हमसे कहा कि शोर मत करो, जो बात हो गई उसे यहीं रफा दफा कर दो। (जैसा कि प्रत्यक्षदर्शी संदीप ने भास्कर को बताया)

सीधी बात, डॉ. दीपक सैनी, पीएमओ

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार एक कुत्ते ने नवजात शिशु को नोचा है?
परिजनों ने ऐसा कुछ नहीं कहा है। हमने शाम 7 बजे से रात 1 बजे तक सीसीटीवी फुटेज चेक की है। इस दौरान कोई भी डॉग परिसर के अंदर दिखाई नहीं दिया है।
अगर कुत्ता नहीं लेकर गया तो शिशु वार्ड की छत तक कैसे पहुंचा?
इसकी जांच अभी चल रही है। जो गार्ड कल ड्यूटी पर था उसका शायद ऑफ होने की वजह से वह छुट्टी पर है। जब वह आएगा तो उससे पूछताछ की जाएगी।
परिजन महिला उस नवजात को थैली में डालकर लेकर गई, क्या यह काम स्टाफ का नहीं था?
प्रोटोकॉल तो यही है कि बच्चे को परिजनों को सुपुर्द भी किया जाता है।
इतने हंगामे के बाद भी स्टाफ वहां क्यों नहीं आया?
अभी सब रजिस्टर देखे जा रहे हैं। हो सकता है उस समय में कोई डिलीवरी हो रही हो और स्टाफ व्यस्त हो। अभी इस मामले की जांच चल रही है। पूरी इन्क्वायरी होने के बाद ही क्लियर हो पाएगा। एक भी चीज छुपाई नहीं जाएगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें