दाह संस्कार के बाद वापस लौटी मृत घोषित महिला:परिजन बोले- शव पहचानने में हुई गलती, अब गुत्थी को सुलझाने की कोशिश में जुटी पुलिस

हनुमानगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उस समय मौके पर मिली महिला की लाश (फाइल फोटो)। - Dainik Bhaskar
उस समय मौके पर मिली महिला की लाश (फाइल फोटो)।

फिल्मों में देखने को मिलता है कि मृत घोषित व्यक्ति कुछ दिनों बाद जिंदा लौट आता है। असली जिंदगी में ऐसे वाक्ये कम ही होते है, लेकिन भिरानी थाना पुलिस अब ऐसी एक गुत्थी को सुलझाने में लगी है। जिसमें मृत घोषित महिला वापस लौट आई। यह मामला पुलिस के लिए भी एक सिरदर्द बनता नजर आ रहा है।

घटना के मुताबिक, 21 नवंबर को जोगीवाला से अमरपुरा की मुख्य सड़क के किनारे अज्ञात महिला का शव मिला था। इस महिला की पहचान हरियाणा के सिरसा जिला के मंगाला गांव के परिवार ने अपनी बेटी परमजीत कौर के तौर पर की और कानूनी प्रक्रिया के बाद शव का दाह-संस्कार कर दिया। इस मामले में नया मोड़ अब आया है जब परमजीत कौर वापस लौट आई। पता चला कि जिसका दाह संस्कार हुआ वह कोई और ही थी। अब पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि जिस महिला का दाह संस्कार कर दिया गया वह आखिर कौन थी?

इसलिए हुई गलफत
भिरानी थाना पुलिस को मिली मृतक महिला की उम्र करीब 25 वर्ष थी और गुलाबी रंग की स्वेटर, पैरों में नीले रंग के स्पोर्ट्स शूज पहने हुए थे। मृतका के हाथों में लाख की चूड़ियां और कमर में काले रंग की तागड़ी बंधी हुई थी। इस मामले में भिरानी थाना पुलिस ने जोगीवाला सरपंच की रिपोर्ट पर मर्ग दर्ज की और शव को कब्जे में लेकर परिजनों की तलाश शुरू की। शव के संबंध में सूचना प्रसारित होते ही हरियाणा के सिरसा जिले के गांव मंगाला से कुछ लोग आए। इन लोगों ने मृतका की पहचान परमजीत कौर के तौर पर की। इन लोगों के मुताबिक मृतका उनकी परिवार की बेटी थी, जिसकी शादी सिरसा जिले के रानियां कस्बे में हुई थी। परमजीत कौर की गुमशुदगी के संबंध में रानियां थाने में 17 नवंबर 2021 को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। भिरानी पुलिस ने परिजनों के द्वारा शव की शिनाख्त करने के बाद पोस्टमार्टम करवाकर शव पिता को सौंप दिया। इसके उपरांत मृतका के परिजनों ने पैतृक गांव मंगाला में अंतिम संस्कार कर दिया और भिरानी थाना मे ससुराल पक्ष पर हत्या का आरोप भी लगा दिया।

अब वापस लौटी परमजीत कौर
पूरे घटनाक्रम में नया मोड़ मंगलवार को आया। जब परमजीत कौर वापस अपने घर पहुंच गई। जानकारी के अनुसार परमजीत कौर को अपनी ही मौत और दाह संस्कार की खबर मिली तो वह वापस लौट आई। बताया जा रहा है कि 15 नवंबर को परमजीत कौर का ससुराल वालों से विवाद हुआ। इसके बाद वह सिरसा होते हुए गुड़गांव चली गई। गुड़गांव में परमजीत को मालूम चला कि उसे मृत समझकर परिजनों ने अंतिम संस्कार कर दिया है तो उसके होश उड़ गए और वह वापस लौट आई।

इस मामले की नए सिरे से जांच की जा रही है। गुमशुदा महिलाओं की तस्वीर, सोशल मीडिया के माध्यम पुलिस अपने स्तर पर गंभीरता से इसकी जांच में लग चुकी है। परमजीत कौर के परिजनों को संतुष्ट होने के बाद ही उन्हें शव सौंपा गया था। किसी तरह की साजिश होगी तो जांच में सामने आ जाएगी।
केसुखराम चोटिया, सीआई, भिरानी।

कंटेंट व फोटो: विजय नोखवाल, भादरा।

खबरें और भी हैं...