पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बड़ी राहत:रीको में 1 करोड़ से लगा जिले का पहला ऑक्सीजन प्लांट; 2 हजार सिलेंडरों में भरी जा सकेगी गैस, 20 हजार लीटर लिक्विड क्षमता का टैंक लगा

हनुमानगढ़13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रीको में तैयार प्लांट का टैंक। - Dainik Bhaskar
रीको में तैयार प्लांट का टैंक।

कोरोना काल में सबसे बड़ी जरूरत बनी ऑक्सीजन को लेकर राहत की खबर है। जिला मुख्यालय पर जंक्शन के रीको फेज सेकंड में ऑक्सीजन रिफिलिंग प्लांट तैयार हो गया है। ऐसे में अब ऑक्सीजन सिलेंडर भरवाने लिए बीकानेर और श्रीगंगानगर नहीं जाना पड़ेगा। रोगियों के लिए ऑक्सीजन यहीं पर उपलब्ध हो सकेगी। प्लांट तैयार होने पर जिला प्रशासन ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर हनुमानगढ़ में कोरोना रोगियों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर लिक्विड ऑक्सीजन के टैंकर की डिमांड की है ताकि प्लांट में रिफिलिंग का काम शुरू हो सके।

खास बात है कि यह प्लांट जिले का पहला ऑक्सीजन रिफिलिंग प्लांट है जिससे पूरे जिले को आपूर्ति मिल सकेगी। प्लांट संचालक के मुताबिक प्लांट में मशीनरी के साथ ही अन्य सभी संसाधन जुटा लिए गए हैं। थ्री फेस कनेक्शन भी हो गया है, ऐसे में अब महज लिक्विड टैंकर आने का इंतजार है। टैंकर से लिक्विड की आपूर्ति मिलते ही प्लांट से सिलेंडरों की रिफिलिंग का काम शुरू हो जाएगा। इससे जिलेभर के अस्पतालों में भर्ती होने वाले रोगियों को फायदा होगा।

ऑक्सीजन रिफिलिंग प्लांट की क्षमता 20 हजार लीटर की है। हालांकि एक टैंकर की क्षमता 15 से 16 हजार लीटर की होती है। इस तरह से प्लांट की टंकी की क्षमता टैंकर से अधिक है। इस तरह से एक टैंकर में आने वाले लिक्विड से 2 हजार सिलेंडरों में ऑक्सीजन भरी जा सकेगी। हर्षित ग्रोवर का कहना है कि इससे पहले वे ऑक्सीजन सिलेंडर भटिंडा सहित अन्य जगहों से भरवाकर सप्लाई देते थे लेकिन कोरोना काल में ऑक्सीजन का संकट देखा तो रहा नहीं गया और प्लांट लगाने की ठानी ताकि पूरे जिले को आपूर्ति दें सकें। पिछले लॉकडाउन में इसको लेकर योजना बनाई और लाइसेंस जारी करा प्लांट लगवाया।

प्लांट के धनंजय ग्रोवर ने बताया कि डेढ़ मिनट में एक सिलेंडर की रिफिलिंग हो सकेगी। इस तरह से यहां पर एक घंटे में 40 ऑक्सीजन सिलेंडर भरे जा सकेंगें। इसके लिए मैनी फोल्ड पॉइंट लगाए गए हैं। प्लांट में टैंकर आते ही टंकी में लिक्विड डाला जाएगा। इसके बाद प्रेशर के साथ लिक्विड वेपोराइजर में जाएगा जहां से लिक्विड को ऑक्सीजन गैस में तब्दील हो जाएगा और पाइपलाइन के जरिए मैनीफोल्ड पॉइंट के नीचे रखे गए सिलेंडरों में ऑक्सीजन भरी जा सकेगी।

यह होंगे फायदे

  • ऑक्सीजन सिलेंडर भरवाने के लिए श्रीगंगानगर या बीकानेर नहीं जाना पड़ेगा।
  • समय के साथ ही आर्थिक रूप से भी सरकारी और निजी अस्पतालों को फायदा होगा।
  • यहीं पर रिफिलिंग होने से रोगियों को समय पर ऑक्सीजन की आपूर्ति मिल सकेगी।
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें