पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हरकत में आया विभाग:पोषाहार की जांच करने पहुंची टीम, दो ब्लॉक में बंट चुकी 25 टन खराब दाल वापस भेजी जाएगी

हनुमानगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आंगनबाड़ी केंद्रों पर सड़ी हुई अवधिपार दाल वितरण की शिकायत मिलने पर प्रशासन हरकत में आया है। गुरुवार को टाउन स्थित आंगनबाड़ी केंद्र 17 बी पर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग और महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी टीम सहित जांच करने पहुंचे। टीम ने जब दाल के पैकेट्स की जांच की तो उन्हें भी अवधिपार दाल दिखाई दी।

इस पर उन्होंने तुरंत ही प्रत्येक केंद्र की कार्यकर्ताओं को भविष्य में पोषाहार की एक्सपायरी डेट जांच करके ही सामग्री लेने के लिए पाबंद किया। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि जिले भर से केंद्रों की जानकारी इकट्ठा की जा रही है। अभी तक 25 टन दाल अवधिपार हो चुकी है। उन्होंने वितरित की जा चुकी दाल को वापस भेजने के निर्देश दिए। वहीं सभी सेंटरों पर कार्यरत कार्मिकों से पोषाहार की गुणवत्ता के बारे में रिपोर्ट भी मांगी गई है।

वितरण के समय एक्सपायरी डेट चेक होगी, सुपरवाइजर की डयूटी लगेगी

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में अभी तक करीब 95 टन दाल की आपूर्ति हो रही है। अभी तक दो ब्लॉक्स में दाल बांटी गई है। वहीं जब अधिकारियों ने निरीक्षण किया और जिले भर से डाटा मंगवाए तो 25 टन दाल अवधिपार होना सामने आया। यही अवधिपार दाल अब वापस भिजवाई जाएगी। इसके साथ ही वितरण के समय एक्सपायरी डेट चेक करने और सुपरवाइजर की डयूटी लगाने के भी निर्देश दिए गए।

यह था मामला...टाउन स्थित आंगनबाड़ी केंद्र में कई महिलाएं यह सड़ी हुई दाल वापस करने पहुंची थी। इसपर वार्ड पार्षद प्रदीप ऐरी को शिकायत मिली तो वे भी जांच के लिए गए। जब उन्होंने केंद्र पर रखे अन्य पैकेट खोलकर देखे तो उनमें कीड़े लगे होना पाया था। सभी पैकेट्स अवधिपार हो चुके थे। वहीं जांच करने पहुंची टीम ने भविष्य में इस तरह की गलती नहीं दोहराई जाने का आश्वासन भी दिया।

दोषियों के खिलाफ एफआईआर करवाने के लिए पत्र लिखा है: उपनिदेशक
पोषाहार की गुणवत्ता को लेकर शिकायत मिली थी इसलिए टीम गठित कर टाउन आंगनबाड़ी केंद्र में पहुंचे थे। सभी केंद्रों से रिपोर्ट मांगी जा रही है। 25 टन दाल अवधिपार होना सामने आया है। दाल वापस भिजवाई जाएगी। इसके साथ ही खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग को दोषी कार्मिकों के खिलाफ एफआईआर करवाने के लिए पत्र भेजा गया है।-प्रवेश कुमार सोलंकी, उपनिदेशक, महिला एवं बाल विकास विभाग।

खबरें और भी हैं...